प्रदूषण पर केंद्र ने SC को दिया सुझाव, कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम के बदले कार पूलिंग बेहतर विकल्प

सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में वर्क फ्रॉम होम के बदले कार पूलिंग का सुझाव दिया गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक हलफनामे में कहा है कि वह केंद्र सरकार के कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए नहीं कह सकती क्योंकि कोविड महामारी के बाद कार्यालयों में कामकाज सामान्य होता जा रहा है। हालांकि, सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में वर्क फ्रॉम होम के बदले कार पूलिंग का सुझाव दिया गया है।

केंद्र ने एक हलफनामे में कहा कि एनसीआर में केंद्र सरकार के कारोबार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों की संख्या बहुत महत्वपूर्ण नहीं थी, इसलिए "केंद्र सरकार ने फैसला किया कि केंद्र सरकार के कार्यालयों के कामकाज के हालिया सामान्य होते हालात को देखते हुए, कोविड की महामारी के बाद, वर्क फ्रॉम होम डायरेक्शन न पास करने का फायदा वर्क फ्रॉम होम डायरेक्शन से मिलने वाले फायदों से अधिक होगा।"

हलफनामे में कहा गया है, "इसके बजाय, भारत सरकार के डीओपीटी ने केंद्र सरकार के अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए कार पूलिंग और साझा करने के लिए एक सलाह जारी की है ताकि अधिकारियों और कर्मचारियों के आने-जाने के लिए केंद्र सरकार के वाहनों की संख्या काफी हद तक कम हो सके।"


शीर्ष अदालत ने मामले की सुनवाई शुरू कर दी है। इससे पहले, शीर्ष अदालत ने केंद्र और राज्य सरकार को राजधानी में वायु प्रदूषण पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाने के लिए आपात बैठक बुलाने को कहा था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia