लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस आज होंगी जारी, दिल्ली-मुंबई-अहमदाबाद-कोलकाता समेत इन 30 शहरों को नहीं मिलेगी कोई छूट

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सरकार को बता दिया है कि 30 शहरों में सर्वाधिक कोरोना पॉजिटिव केस हैं इसलिए इनमें लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाए। गौरतलब है कि मुंबई, दिल्ली और कोलकाता में देश के कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों के 80 फीसदी केस हैं।

फोटो : Getty Images
फोटो : Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन का तीसरा दौर आज यानी 17 मई को खत्म हो रहा है और संभावना है कि कल 18 मई से इसका चौथा दौर शुरु जाएगा। खबर है कि इस लॉकडाउन में तमाम किस्म की रियायतें होंगी, लेकिन 30 शहर ऐसे हैं जिन्हें कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। इनमें दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, अहमदाबाद और चेन्नई शामिल हैं। यूपी के आगरा और मेरठ को भी लॉकाडउन 4.0 में कोई राहत नहीं मिलेगा।

इस बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने सरकार को बता दिया है कि 30 शहरों में सर्वाधिक कोरोना पॉजिटिव केस हैं इसलिए इनमें लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाए। गौरतलब है कि मुंबई, दिल्ली और कोलकाता में देश के कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों के 80 फीसदी केस हैं।

यह 30 शहर 12 राज्यों में फैले हैं। हिंदुस्तान टाइम्स की एक खबर के मुताबिक महाराष्ट्र और तमिलनाडु के शहरों की संख्या इनमें करीब एक तिहाई है। वहीं गुजरात और राजस्थान के तीन-तीन और बंगाल के दो शहर इनमें शामिल हैं। कौन से हैं यह तीस शहर इसकी पूरी सूची नीचे ग्राफिक्स में देखिए:

लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस आज होंगी जारी, दिल्ली-मुंबई-अहमदाबाद-कोलकाता समेत इन 30 शहरों को नहीं मिलेगी कोई छूट
लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस आज होंगी जारी, दिल्ली-मुंबई-अहमदाबाद-कोलकाता समेत इन 30 शहरों को नहीं मिलेगी कोई छूट
लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस आज होंगी जारी, दिल्ली-मुंबई-अहमदाबाद-कोलकाता समेत इन 30 शहरों को नहीं मिलेगी कोई छूट

इस साल 24 मार्च की रात 12 बजे से शुरु हुआ लॉकडाउन रविवार यानी 17 मई की रात 12 बजे खत्म हो जाएगा। इसके बाद लॉकाडाउन 4.0 लागू होगा या नहीं इस बारेम अभी तक कोई घोषणा नहीं हुई है, हालांकि माना जा रहा है कि गृह मंत्रालय आज लॉकडाउन के चौथे दौर का ऐलान करते हुए दिशा-निर्देश जारी करेगा।

लॉकडाउन 3.0 4 मई को शुरु हुआ था, जिसमें ऐसे जिलों को काफी राहत और छूट दी गई थीं जहां कोरोना के केस सामने नहीं आए थे, साथ ही केसों की संख्या के आधार पर रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन घोषित किए गए थे। दरअसर 21 अप्रैल को दूसरे दौर के लॉकडाउन से ही केंद्र सरकार ने कुछ-कुछ छूट देना शुरु कर दी थीं ताकि आर्थिक गतिविधियां शुरु हो सकें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत और फिर मंगलवार को देश के नाम संदेश में संकेत दिए थे कि लॉकडाउन का चौथा चरण शुरु तो होगा लेकिन उसका रंग-रूप अलग होगा। इससे यही अर्थ निकाले गए कि इस बार काफी गतिविधियों को छूट दी जाएगी। साथ ही संभावना जताई गई कि इस बार राज्यों को लॉकडाउन के नियम तय करने की आजादी दी जा सकती है।

दरअसल लॉकडाउन 4.0 के नियम इस तरह बनाए जाने की कवायद चल रही है ताकि आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिल सके, लेकिन देश के 30 शहर या म्यूनिसिपल क्षेत्र ऐसे हैं जहां कोरोना मरीजों की संख्या अधिक है, और इन शहरों में लॉकजाउन के नियमों का सख्ती से पालन किया जाएग। सूत्रों का कहना है कि इस बार सरकार का फोकस शहरी क्षेत्रों पर अधिक है क्योंकि इन्हीं 30 शहरों में सर्वाधिक कोरोना मरीज हैं।

गौरतलब है कि शनिवार को स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन ने 12 राज्यों के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में कोरोना के हाई रिस्क इलाकों के साथ ही मौतों की दर, मामले बढ़ने की रफ्तार, हर 10 लाख पर टेस्ट के आंकड़े आदि पर चर्चा हुई। बैठक के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों का पालन कराने की बात भी कही गई खासतौर से उन इलाकों में जहां मामले लगातार सामने आ रहे हैं।

लोकप्रिय
next