भारत में बने टीके का 75 फीसदी केंद्र खरीदेगा, बाकी 25 प्रतिशत स्टॉक निजी अस्पतालोंं को बिकेंगे

केंद्र सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को केंद्र संचालित केंद्रों में लोगों के टीकाकरण के लिए मुफ्त में टीके उपलब्ध कराएगा। केंद्र सभी राज्यों को उनकी जरूरत, उनकी आबादी और टीकाकरण कितने प्रभावी ढंग से किया जा रहा है, उसके आधार पर टीके उपलब्ध कराएगा।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र सरकार भारत में उत्पादित 75 फीसदी टीके सीधे निर्माताओं से खरीदेगी, जबकि शेष 25 फीसदी को निजी स्वास्थ्य क्षेत्र को बेचने की अनुमति होगी। देश में टीकाकरण और कोविड महामारी की स्थिति पर मंगलवार को नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी.के. पॉल ने कहा कि राज्य सरकारें सीधे विनिर्माण इकाइयों से टीके नहीं खरीदेंगी।

डॉ. वी.के. पॉल ने कहा कि केंद्र सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को मुफ्त में टीके उपलब्ध कराएगा जैसा कि पहले ही घोषित किया जा चुका है। भारत में टीके निर्माता अपने कुल स्टॉक का 75 प्रतिशत केंद्र को बेचेंगे और शेष 25 प्रतिशत निजी स्वास्थ्य केंद्र को बेच सकते हैं।

उन्होंने बताया कि सरकार ने टीकाकरण अभियान को केंद्रीकृत करने का निर्णय लिया है और इसलिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीकों की खरीद के लिए संघर्ष नहीं करना पड़ेगा।
पॉल ने कहा कि केंद्रीकृत टीकाकरण पर वापस जाने का निर्णय राज्यों को हुई कठिनाइयों और टीकों की खरीद में उनकी विफलता के परिणामस्वरूप देश में शुरू हुई कुछ अन्य कथाओं के कारण लिया गया।

उन्होंने कहा कि पिछले एक महीने में 12 राज्य सरकारों ने केंद्रीकृत टीकों की खरीद की सिफारिश की है, ताकि लोगों को तेजी से कोविड से निजात मिल सके। पॉल ने आगे कहा, "12 राज्य सरकारों ने केंद्र से अनुरोध किया है, उनमें से 10 मुख्यमंत्री, एक उपराज्यपाल और एक मुख्य सचिव हैं।"


पॉल ने कहा, "यहां तक कि जब राज्यों को अपने दम पर टीके खरीदने की अनुमति दी गई थी, तब भी हमने हर स्थिति पर कड़ी निगरानी रखी। टीकाकरण के मुद्दे पर खरीद से लेकर आपूर्ति तक, विभिन्न आयु समूहों आदि पर नियमित रूप से चर्चा हुई है। राज्यों से प्रतिक्रिया प्राप्त करने के बाद, यह निर्णय लिया गया कि टीकाकरण कार्यक्रमों को अपने केंद्रीकृत रूप में वापस जाने की जरूरत है।"

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा संचालित टीकाकरण केंद्रों में लोगों को देने के लिए केंद्र सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मुफ्त में टीके उपलब्ध कराएगा। हालांकि, राज्यों को आयु समूहों के संबंध में अपनी प्राथमिकता निर्धारित करने की अनुमति होगी। केंद्र सभी राज्यों को उनकी जरूरत, उनकी आबादी और टीकाकरण कितने प्रभावी ढंग से किया जा रहा है उसके आधार पर टीके उपलब्ध कराएगा।

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी.के. पॉल ने कहा, "यह भी तय किया गया कि राज्यों को कम से कम एक महीने पहले टीकों के स्टॉक के बारे में सूचित किया जाएगा ताकि वे सामूहिक टीकाकरण अभियान की तैयारी कर सकें।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia