कोरोना की तीसरी लहर की संभावना अब ना के बराबर, आईआईटी-कानपुर के प्रोफेसर ने नए अध्ययन में किया दावा

प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि यूपी, बिहार, दिल्ली जैसे राज्य लगभग संक्रमण मुक्त होने की राह पर हैं। हालांकि, देश में सक्रिय मामले अक्टूबर महीने तक 15,000 के करीब रहेंगे, क्योंकि पूर्वोत्तर राज्यों, तेलंगाना, तमिलनाडु और केरल में अभी संक्रमण जारी रहेगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

आईआईटी कानपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल ने दावा किया है कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावना अब न के बराबर है। अपने गणितीय 'मॉडल फॉर्मूले' पर आधारित अपना नया अध्ययन जारी करते हुए उन्होंने कहा है कि टीकाकरण ने इस जोखिम को और कम कर दिया है।

प्रोफेसर अग्रवाल ने कहा कि टीकाकरण ने संक्रमण में काफी हद तक कमी सुनिश्चित की है। उन्होंने कहा कि यूपी, बिहार, दिल्ली जैसे राज्य लगभग संक्रमण मुक्त होने की राह पर हैं। हालांकि, देश में सक्रिय मामले अक्टूबर महीने तक 15,000 के करीब रहेंगे, क्योंकि पूर्वोत्तर राज्यों और तमिलनाडु, तेलंगाना, केरल में भी संक्रमण जारी रहेगा। उन्होंने दावा किया कि अक्टूबर तक उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में मामलों की संख्या इकाई अंक तक पहुंच जाएगी।


इस बीच रविवार को कानपुर में कोरोना के दो और मरीज होम आइसोलेशन में संक्रमण मुक्त हो गए। वहीं नए संक्रमितों की संख्या शून्य हो गई है। कानपुर में 82,906 लोग कोरोना से संक्रमित हुए थे, जिनमें से 80,991 मरीज ठीक हो चुके हैं। ठीक हुए मरीजों में 69,616 को घर पर इलाज का फायदा मिला और 11,375 मरीजों को ही अस्पताल में इलाज मिला। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नेपाल सिंह ने बताया कि शहर में अब सिर्फ 11 कोरोना एक्टिव केस बचे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia