वीडियोकॉन लोन मामला: चंदा कोचर और वीडियोकॉन प्रमुख वेणुगोपाल के घर प्रवर्तन निदेशालय का छापा  

बता दें कि चंदा कोचर के कार्यकाल के दौरान आईसीआईसीआई ने विडिकॉन ग्रुप और उससे संबंद्धित कंपनियों के लिए 1875 करोड़ रुपए के छह लोन को मंजूरी दी थी। चंदा दो मामलों में मंजूरी देने वाली कमेटी में खुद भी शामिल थीं। सीबीआई लोन देने में उनकी भूमिका की जांच कर रही है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व कार्यकारी प्रमुख चंदा कोचर और वीडियोकॉन के मैनेजिंग डायरेक्टर वेनुगोपाल धूक के घर और दफ्तर पर प्रवर्तन निदेशालय की छापेमरी चल रही है। बैंक से लोन लेने के मामले में ईडी चंदा कोचर और वेणुगोपाल धूत के घरों की तलाशी ले रहा है।

वेणुगोपाल धूत, चंदा कोचर और उनके पति के खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी कर दिया गया है। सीबीआई ने उनके खिलाफ एक नोटिस जारी कर विदेश जाने पर रोक लगा दी है। मामला दर्ज होने के एक हफ्ते बाद उनके खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया गया है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि आरोपी देश छोड़कर भाग न पाएं।

लुकआउट नोटिस सीधे आव्रजन विभाग को भेजा जाता है औऱ उसमें जिस शख्स को रोका जाना होता है उसके बारे में जानकारी देते हुए निर्देश दिए जाते हैं। एजेंसी से अनुरोध मिलने पर आव्रजन अधिकारी व्यक्ति को हिरासत में भी ले सकते हैं।

हालांकि बयान दर्ज कराने के लिए चंदा कोचर के खिलाफ सीबीआई ने अभी समन नहीं जारी किया है। बता दें कि चंदा कोचर के कार्यकाल के दौरान आईसीआईसीआई ने विडिकॉन ग्रुप और उससे संबंद्धित कंपनियों के लिए 1875 करोड़ रुपए के छह लोन को मंजूरी दी थी। चंदा दो मामलों में मंजूरी देने वाली कमेटी में खुद भी शामिल थीं। सीबीआई लोन देने में उनकी भूमिका की जांच कर रही है।

लोकप्रिय