चंद्रयान-3 टचडाउन के लिए पूरी तरह तैयार, सुनीता विलियम्स बोलीं- शुभकामनाएं, हम आपके लिए चीयर कर रहे हैं

भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स ने भारतीयों को 'शुभकामनाएं' देते हुए कहा है कि जब चंद्रयान-3 मिशन का लैंडर मॉड्यूल बुधवार को चंद्रमा की सतह पर उतरने का प्रयास करेगा तो वह भारत के लिए चीयर करेंगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय वैज्ञानिक इतिहास रचने के लिए तैयार हैं। चंद्रयान-3 मिशन भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के अधिकारियों और अन्य लोगों के लिए 19 मिनट का रहस्य और उत्साह प्रदान करने के लिए पूरी तरह तैयार है। आज शाम 5 बजकर 45 मिनट पर चंद्रयान-3 का लैंडर चांद की ओर बढ़ना शुरू करेगा और शाम 6 बजकर 4 मिनट पर चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। इस ऐतिहासिक पल का सबको इंतजार है। भारत के साथ-साथ दूसरे देशों में भी इसे लेकर खासा उत्साह है। अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स भी इसको लेकर उत्साहित हैं।

भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स ने भारतीयों को 'शुभकामनाएं' देते हुए कहा है कि जब चंद्रयान-3 मिशन का लैंडर मॉड्यूल बुधवार को चंद्रमा की सतह पर उतरने का प्रयास करेगा तो वह भारत के लिए चीयर करेंगी। नासा की अनुभवी अंतरिक्ष यात्री ने नेशनल ज्योग्राफिक इंडिया द्वारा साझा किए गए एक वीडियो संदेश में कहा, "मैं 23 अगस्त को चंद्रयान-3 के लिए बहुत उत्साहित हूं। शुभकामनाएं, हम आपके लिए चीयर कर रहे हैं।"


विलियम्स, जिन्होंने अपने दो शटल मिशनों में अंतरिक्ष में लगभग 322 दिन बिताए हैं, ने कहा कि चंद्रमा पर उतरने से उसकी संरचना और इतिहास पर बहुमूल्य जानकारी मिलेगी।

नेशनल ज्योग्राफिक इंडिया इस कार्यक्रम का लाइव कवरेज करेगा, जिसमें अंतरिक्ष उद्योग के विशेषज्ञों के साथ-साथ विलियम्स और राकेश शर्मा जैसे अंतरिक्ष यात्रियों के अंतरिक्ष अन्वेषण पर इनपुट भी शामिल होंगे। चैनल ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, "हम सपने देखने वाले इसरो के बहादुरों को सलाम करते हैं।" उसने बताया कि टचडाउन का सीधा प्रसारण दोपहर बाद 4 बजे से किया जायेगा।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अनुसार, लैंडर आज शाम 5.45 बजे चंद्रमा पर उतरना शुरू करेगा और लगभग 6.05 बजे चंद्रमा पर उतरेगा। मिशन की सफलता भारत के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है, जो अमेरिका, चीन और तत्कालीन सोवियत संघ के बाद चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट-लैंडिंग तकनीक में महारत हासिल करने वाला चौथा देश बन जाएगा। इसके अलावा, यह चंद्रमा के अज्ञात बड़े दक्षिणी ध्रुव तक पहुंचने वाला पहला देश भी बन जाएगा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;