चारधाम यात्रा: विरोध के डर से बैकफुट पर धामी सरकार! श्रद्धालुओं की संख्या पर पाबंदी न लगाने पर कर रही विचार

उत्तराखंड सरकार के स्तर पर तीन धामों बदरीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री में श्रद्धालुओं की संख्या पर पाबंदी न लगाने पर विचार शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसके संकेत दिए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चारधाम यात्रा से जुड़े कारोबारियों और तीर्थपुरोहितों के मुखर विरोध के चलते उत्तराखंड सरकार श्रद्धालुओं की संख्या को सीमित रखने के प्रस्ताव को टाल सकती है। सरकार के स्तर पर तीन धामों बदरीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री में श्रद्धालुओं की संख्या पर पाबंदी न लगाने पर विचार शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसके संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा कि केदारनाथ में यात्रियों की संख्या का कोटा तय हो सकता है। बाकी धामों के बारे में सरकार विचार कर रही है।

CM धामी ने कहा कि चारधाम यात्रा से जुड़े सभी हितधारकों के हित सुरक्षित रखना सरकार की प्राथमिकता है। उनकी हर शंका का हम समाधान करेंगे। उनको कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी। धामों में संख्या सीमित करने के बारे में भी हम विचार कर रहे हैं। उनका कारोबार वैसे ही चलेगा, जैसा पिछली यात्रा में चला।

चारधाम यात्रा: विरोध के डर से बैकफुट पर धामी सरकार! श्रद्धालुओं की संख्या पर पाबंदी न लगाने पर कर रही विचार

चारधाम यात्रा में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम की धारण क्षमता के आधार पर पर्यटन विभाग ने दर्शन के लिए प्रतिदिन श्रद्धालुओं का कोटा निर्धारित करने का प्रस्ताव तैयार किया है। चारधाम यात्रा से जुड़े तीर्थ पुरोहित, होटल, ढाबा व्यवसायी, टैक्सी ऑपरेटरों ने श्रद्धालुओं का कोटा निर्धारित करने के प्रस्ताव का विरोध किया। इस पर सरकार ने प्रस्ताव पर निर्णय लिया। साथ ही अधिकारियों को हितधारकों के साथ बैठक करने के निर्देश दिए थे।

अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी की अध्यक्षता में सभी हितधारकों के साथ बैठक की जा चुकी है, जिसमें चारधाम तीर्थ पुरोहित महापंचायत होटल व्यवसायी और टैक्सी आपरेटरों ने श्रद्धालुओं की संख्या सीमित करने का पुरजोर समर्थन किया था। 22 अप्रैल से चारधाम यात्रा शुरू होनी है। हितधारकों के विरोध को देखते हुए सरकार केदारनाथ को छोड़ गंगोत्री, यमुनोत्री व बदरीनाथ में श्रद्धालुओं के कोटे को समाप्त कर सकती है।

चारधाम यात्रा: विरोध के डर से बैकफुट पर धामी सरकार! श्रद्धालुओं की संख्या पर पाबंदी न लगाने पर कर रही विचार

साथ ही केदारनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्य चल रहा है। केदारनाथ धाम के लिए लगभग 18 किमी का पैदल चढ़ाई है। साथ ही केदारपुरी में श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए पर्याप्त होटल व धर्मशाला नहीं है। केदारनाथ धाम की विकट भौगोलिक परिस्थिति को देखते हुए सरकार केदारनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं का कोटा तय कर सकती है।

वहीं पिछले साल तीन मई 2022 को चारधाम यात्रा शुरू हुई थी। एक माह में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में 1.35 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए थे। 6 मई को केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के दिन ही 25 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए थे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;