झारखंड में जेलों की चाहरदीवारी के भीतर भी गूंज रहे छठ गीत, 80 से ज्यादा कैदी कर रहे हैं व्रत

छठ पर तीन दिनों का निर्जला उपवास करनेवाले बंदियों में एक दर्जन ऐसे हैं, जो हत्या जैसे अपराधों के लिए सजा काट रहे हैं। छोटे-बड़े अपराधों के चलते जेल पहुंचे कैदी अपने गुनाहों के लिए छठ माता से क्षमा मांगेंगे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

झारखंड में जेलों की चाहरदीवारी के भीतर भी छठ के गीत गूंज रहे हैं। राज्य की अलग-अलग जेलों में इस साल 80 से ज्यादा कैदी छठ व्रत कर रहे हैं। जेलों में प्रशासन ने इन सभी के लिए फल-फूल, प्रसाद, सूप-दौरी, नये वस्त्र और पूजन सामग्री का इंतजाम किया है। सूर्य देवता को अर्घ्य देने के लिए जेलों के अंदर ही अस्थायी तालाब या कृत्रिम जलाशय बनवाये गए हैं। छठ पर तीन दिनों का निर्जला उपवास करनेवाले बंदियों में एक दर्जन ऐसे हैं, जो हत्या जैसे अपराधों के लिए सजा काट रहे हैं। छोटे-बड़े अपराधों के चलते जेल पहुंचे कैदी अपने गुनाहों के लिए छठ माता से क्षमा मांगेंगे।

झारखंड की सबसे पुरानी और ऐतिहासिक हजारीबाग स्थित जयप्रकाश केंद्रीय कारागार के अधीक्षक कुमार चंद्रशेखर ने बताया कि इस वर्ष 34 कैदी छठ व्रत कर रहे हैं। इनमें महिला और पुरुष दोनों हैं। मंगलवार को पूरे दिन उपवास के बाद व्रती शाम में खरना करेंगे। खरना प्रसाद के लिए खीर-रोटी बनाई जा रही है। बुधवार को जेल में ही बने तालाब पर शाम का अर्घ्य और गुरुवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। छठ घाट पर विशेष सजावट भी की गई है।


जेल अधीक्षक ने बताया कि विशेष प्रसाद ठेकुआ बनाने में व्रतियों के साथ-साथ कई अन्य कैदी सहयोग कर रहे हैं। पिछले साल यहां 26 कैदियों ने छठ पर उपवास किया था। इस बार 34 कैदियों ने छठ व्रत के लिए आवेदन दिया। जेल प्रशासन ने सभी को मंजूरी देते हुए उनके लिए सभी जरूरी व्यवस्था उपलब्ध कराई है। सोमवार को नहाय-खाय के साथ ही चाहरदीवारी के भीतर छठ गीत गूंजने लगे। जेल अधीक्षक के अनुसार, व्रत को लेकर सामान्य कैदी भी उत्साहित हैं और वे इसके लिए हर तरह की व्यवस्था में हाथ बंटा रहे हैं।

पलामू स्थित मेदिनीनगर सेंट्रल जेल में भी 20 कैदी छठ व्रत पर उपासना में जुटे हैं। इनमें कुछ ऐसे हैं, जो नक्सली वारदातों में शामिल रहे हैं और जेल लाए जाने के पहले पुलिस के लिए मोस्ट वांटेड हुआ करते थे। यहां भी अर्घ्य देने के लिए टंकी बनायी गयी है। जेल प्रशासन के सहयोग से साफ-सफाई से सजावट तक की व्यवस्था कैदियों ने ही की है।

इसी तरह रांची स्थित बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल में कुल 10 कैदी व्रत कर रहे हैं। जेलर हामिद अख्तर ने बताया कि इनमें 9 महिलाएं और एक पुरुष है। जमशेदपुर स्थित घाघीडीह सेंट्रल जेल में आधा दर्जन कैदी और धनबाद मंडल कारा में सात कैदी छठ की उपासना में जुटे हैं। धनबाद मंडल कारा के छठ व्रतियों में चार पुरुष और तीन महिलाएं हैं। दुमका, कोडरमा सहित राज्य की अन्य कई जेलों में व्रत करने वाले कैदियों के लिए जेल प्रशासन की तरफ से जरूरी व्यवस्थाएं की गयी हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Nov 2021, 5:40 PM