छत्तीसगढ़: इस बीजेपी उम्मीदवार ने जीत के जश्न में बंटवा दिए थे लड्डू, नतीजे आये तो कांग्रेस के हाथों मिली बड़ी हार

वोटों की गिनती के दौरान छत्तीसगढ़ की कोरबा सीट से बीजेपी उम्मीदवार ज्योतिनंद दुबे सुबह से ही बढ़त बनाए हुए थे। तभी तानाखार और रामपुर के बूथों की ईवीएम खुलते हुए मामला पलट गया और कांग्रेस की ज्योत्सना महंत ने 25 हजार से ज्यादा वोटों से बड़ी जीत हासिल की।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों के बाद जहां पूरे देश में बीजेपी के कार्यकर्ता जश्न मना रहे थे, वही छत्तीसगढ़ में बीजेपी उम्मीदवार के जश्न को कांग्रेस ने मायूसी में बदल दिया। दरअसल छत्तीसगढ़ की सबसे हाई प्रोफाइल कोरबा सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार ज्योतिनंद दुबे ने नतीजे आने से पहले ही जोश में आकर लड्डू बंटवा दिए, लेकिन जब नतीजे सामने आये तो पता चला कि चुनाव में उनकी बड़ी हार हुई है। छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. चरणदास महंत की पत्नी ज्योत्सना महंत ने ज्योतिनंद दुबे 26 हजार से ज्यादा मतों से हरा दिया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

गुरूवार को बीजेपी उम्मीदवार ज्योतिनंद दुबे सुबह से ही बढ़त बनाए हुए थे। कुछ देर बाद दुबे दस हजार वोटों से आगे चल रहे थे, जिसके बाद ज्योतिनंद और उनके समर्थकों ने वोट काउंटर सेंटर पर जश्न मनाना शुरू कर दिया। ढोल नगाड़ों के बीच लोगों को मिठाईयां बांटी गयीं।

तभी नतीजों में बड़ा बदलाव आना शुरू हुआ। कोरबा के पाली तानाखार और रामपुर के बूथों की ईवीएम खुलते हुए मामला पलट गया। करीब तीन बजे के बाद से कांग्रेस की ज्योत्सना महंत 25 हजार पार कर गई और देखते ही देखते उनको बड़ी जीत हासिल हुई।

इसके बाद बीजेपी का जश्न मायूसी में बदल गया। कोरबा जिले के पाली तानाखार से 61 हजार, रामपुर से 29 हजार वोट से बीजेपी प्रत्याशी ज्योतिनंद दुबे पिछड़ गए। यहां तक कि वो अपने गृह क्षेत्र कटघोरा से भी करीब साढ़े चार हजार वोटों से पीछे रहे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

बता दें कि मनमोहन सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री रहे डॉ. चरणदास महंत 2009 के चुनाव में कोरबा सीट से जीतकर सांसद बने थे। इसके अलावा चरणदास मध्य प्रदेश सरकार में गृहमंत्री भी रह चुके हैं।

ज्योत्सना महंत का राजनितिक बैकग्राउंड कुछ ज्यादा खास नहीं है। इसके बावजूद भी छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों में से जिन सीटों पर कांग्रेस सबसे ज्यादा मजबूत मानी जा रही थी, उसमें कोरबा का नाम सबसे आगे था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia