'भारत की जमीन पर बार-बार घुस रहा चीन, लेकिन देश की बजाय अपनी छवि को चमकाने में लगे हैं मिस्टर क्लीन'

कांग्रेस ने चीन मसले पर केंद्र की मोदी सरकार पर तीखा आरोप लगाया है। पार्टी ने कहा कि मोदी सरकार चीन को लगातार खुली छूट देती चली जा रही है, उसे 'देश की बजाय अपनी छवि की चिंता है' इसलिए क्लीन चिट भी दे दी जा रही है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनाव बरकरार है। वहीं चीन को लेकर मोदी सरकर के रवैये पर भी सवाल उठ रहे हैं। कांग्रेस इस मुद्दे पर मोदी सरकार पर हमलावर है। कंग्रेस ने चीन मसले पर केंद्र की मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पार्टी ने कहा कि मोदी सरकार चीन को लगातार खुली छूट देती चली जा रही है, उसे 'देश की बजाय अपनी छवि की चिंता है' इसलिए क्लीन चिट भी दे दी जा रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मंगलवार को कहा, 1962 में भी सेना के पराक्रम में भी कोई कमी नहीं थी, अब भी इच्छा शक्ति की कोई कमी नहीं है। लद्दाख, अरुणाचल, सिक्कम में चीन बार-बार देश में घुसने की हिम्मत करता है। पवन खेड़ा केंद्र की बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि, उत्तराखंड में चीन 5 किलोमीटर घुसकर पुल तोड़कर वापस गया। लेकिन सरकार की ओर से कोई स्टैंड नहीं लिया गया। भारत के पीएम को सीमाओं की बजाय अपने कृत्रिम छवि की चिंता है।


कांग्रेस नेता ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि, 2021 के बाद से जब से घटना हुई उसके बाद से भारत-चीन के बीच व्यापार 60 प्रतिशत बढ़ गया। हमारे पास साहसी सेना है। जो चीन से टक्कर ले रही है। लेकिन मोदी सरकार उनकी कामयाबियों पर पानी फेर रही है। उन्होंने कहा कि चीन के एयरक्राफ्ट देश की सीमा के समीप ड्रिल करते रहे लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से कोई एक्शन नहीं लिया गया।

पवन खेड़ा ने आरोप लगाते हुए कहा, कूटनीति केवल भाषण देने से नहीं होती, शान्ति से इस पर काम करने की जरूरत है। 2013 में मनमोहन सरकार में 21 दिन में चीन को देश की सीमा से बाहर कर दिया था लेकिन मोदी सरकार कूटनीति बनाने की बजाय, विपक्ष को लाल आंख दिखा रही है और चीन को भारत की जमीन दी जा रही है।


बता दें कि पूर्वी लद्दाख स्थित वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच तनाव एक बार फिर से बढ़ गया है। रविवार को दोनों देशों के बीच चुशुल-मोल्डो के पास दिनभर चली कोर कमांडर स्तर की वार्ता न सिर्फ असफल रही है वरन बैठक के बाद दोनों पक्षों की तरफ से जो बयान जारी किए गए हैं, वह बढ़ते तनाव की तरफ इशारा करते हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 12 Oct 2021, 8:28 PM