मोदी सरकार में एक बार फिर चीन की दुस्साहस, अरुणाचल में 200 चीनी सैनिकों ने लांघी सीमा, भारतीय सैनिकों से हुआ आमना-सामना

भारत और चीन के बीच एलएसी पर तनाव के बीच अरुणाचल प्रदेश में दोनों देशों की सेनाओं के आमने सामने आने की खबर है। रक्षा प्रतिष्ठान के सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि पिछले हफ्ते अरुणाचल सेक्टर में भारत और चीन के सैनिकों का आमना-सामना हुआ था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के करीब 200 सैनिकों ने पिछले हफ्ते भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया, जिसके बाद भारतीय सैनिकों का आमना-सामना हुआ। यह तवांग सेक्टर में यांग्त्से के पास एलएसी के समीप एक नियमित गश्त के दौरान हुआ।

भारतीय सैनिकों ने लगभग 200 पीएलए सैनिकों को रोका, जो तिब्बत से भारतीय सीमा में आए और खाली बंकरों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की। इससे दोनों पक्षों के बीच आमना-सामना हुआ जिसे स्थानीय स्तर पर कमांडरों द्वारा सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझा लिया गया।


शीर्ष सरकारी सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच आमना-सामना कुछ घंटों तक चला और मौजूदा प्रोटोकॉल के अनुसार इसे सुलझा लिया गया। इस दौरान भारतीय सुरक्षा बलों को कोई नुकसान नहीं हुआ।

सूत्रों ने यह भी कहा कि भारत-चीन सीमा का औपचारिक रूप से सीमांकन नहीं किया गया है और इसलिए दोनों देशों के बीच एलएसी की धारणा में अंतर है। सूत्र ने कहा, "अलग-अलग धारणाओं के इन क्षेत्रों में शांति और दोनों देशों के बीच मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल से संभव हुई है।" दोनों पक्ष अपनी धारणा के अनुसार गश्ती गतिविधियां करते हैं।

जब भी दोनों पक्षों के गश्ती दल मिलते हैं, तो दोनों पक्षों द्वारा सहमत स्थापित प्रोटोकॉल और तंत्र के अनुसार स्थिति का प्रबंधन किया जाता है। सूत्र ने कहा कि पिछले हफ्ते की घटना में कोई नुकसान नहीं हुआ उन्होंने कहा, "आपसी समझ के अनुसार कुछ घंटों तक दोनों पक्षों में संभवत: बातचीत चलती रही।" पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के भारत और चीन के बीच पिछले 16 महीनों से सीमा विवाद की स्थिति है।

अब तक कमांडर-स्तरीय वार्ता के बारह दौर हो चुके हैं और 13वां दौर अक्टूबर के मध्य में होने वाला है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia