डोकलाम विवाद के बाद चीन ने भारत से सटी सीमा पर 5 एयर डिफेंस यूनिट्स समेत बनाए 13 नए सैन्य ठिकाने: अमेरिकी रिपोर्ट

चीन ने भारत के साथ लगती सीमा के नजदीकी इलाकों में बीते 3 साल के दौरान कम से कम 13 नए सैन्य ठिकाने बनाए हैं। इनमें एयरबेस, हैलीपैड और डिफेंस यूनिट शामिल हैं। एक अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने यह निर्माण डोकलाम विवाद के बाद किए हैं।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद के बीच एक नई रिपोर्ट सामने आई है जिसमें दावा किया गया है कि चीन ने भारत से सटी सीमा के आसपास बीते तीन साल के दौरान कम से कम 13 नए सैन्य अड्डे बनाए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इन सैन्य अड्डों में तीन एयरबेस, 5 एयर डिफेंस यूनिट और पांच हैलीपैड शामिल हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि चीन ने ये सारे निर्माण 2017 में भारत के साथ हुए डोकलाम विवाद के बाद बनाए हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन ने जो पांच हैलीपैड तैयार किए हैं उनमें से 4 को बनाने का काम इसी साल जून में तब शुरु हुआ है जब भारत और चीन के जवानों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। यह रिपोर्ट अमेरिकी सिक्योरिटी एंड इंटेलिजेंस कंसल्टेंसी स्ट्राटफोर ने मंगलवार को जारी की है।

रिपोर्ट में कह गया है कि ऐसा लगता है कि डोकलाम विवाद के बाद चीन ने अपनी रणनीति बदल दी। रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने भारत की सीमा से सटे इलाकों मेंअपने सैन्य ठिकानों की तादाद दोगुनी करनी शुरू कर दी है। कहा गया है कि चीन की सेना ने इस लाके में पहले से मौजूद एयरबेस पर चार एयर डिफेंस सिस्टम लगाए हैं, साथ ही कई रनवे तैयार किए हैं। इतना ही नहीं चीन ने इन इलाको में अपने लड़ाकू विमानों को छिपाने के लिए शेल्टर्स भी बनाए हैं। रिपोर्ट का दावा है कि चीन अपने सैन्य ठिकानों पर तैनात किए जाने वाले लड़ाकू विमानों की संख्या में भी इजाफा कर रहा है।

रिपोर्ट ने ओपन सोर्स सैटेलाइट की इमेज के आकलन से कई नई बातें सामने रखी हैं। इसके मुताबिक चीन ने तिब्बत में मानसरोवर झील के किनारे सतह से सतह पर वार करने वाली मिसाइल साइट बना ली है। इसके अलावा, डोकलाम और सिक्किम के विवादित इलाकों में भी ऐसी ही साइट तैयार कर रहा है। स्ट्राटफोर की रिपोर्ट के मुताबिक, 2016 से पहले तक तिब्बत के पास चीन का सिर्फ एक हेलिपैड और एक एयर डिफेंस साइट था। पिछले एक साल के अंदर इसने चार एयरबेस, चार हेलिपैड और एक एयर डिफेंस साइट तैयार की हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia