चिन्मयानंद केस: योगी सरकार में इंसाफ के बदले मिलती है धमकी, पीड़िता का छलका दर्द, ‘ बीजेपी नेता किया मेरा रेप’

बीजेपी नेता स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लॉ कॉलेज की छात्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का मुकदमा दर्ज करने की मांग की। साथ ही योगी सरकार की पुलिस पर कई गंभीर सवाल उठाए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पूर्व गृह राज्यमंत्री और बीजेपी नेता स्वामी चिन्मयानंद पर अपहरण और रेप का आरोप लगाने वाली लॉ की छात्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर कई खुलासे किए हैं। पीड़ित छात्रा ने कहा कि बीजेपी नेता चिन्मयानंद ने न केवल मेरा रेप किया बल्कि एक साल तक मुझे प्रताड़ित भी किया।

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पीड़िता ने यूपी पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़िता ने कहा, “जब मैं दिल्ली में थी तो तब दिल्ली पुलिस ने रेप की शिकायत लोधी रोड पुलिस स्टेशन में दर्ज की और फिर इसे शाहजहांपुर पुलिस को भेज दिया। इसके बावजूद यूपी पुलिस रेप का मामला दर्ज नहीं कर रही है। अब मुझे यूपी पुलिस से खतरा लगा रहा है।”

पीड़िता ने प्रेस कांफ्रेंस कर योगी सरकार की पुलिस और प्रशासन पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा, “मेरे को पिता को शाहजहांपुर के डीएम धमकी दे रहे हैं। यूपी पुलिस की लापरवाही के चलते ही दिल्ली में जीरो एफआईआर करवानी पड़ी। उन्होंने आगे कहा, “रविवार को एसआईटी ने मुझसे लगभग 11 घंटे पूछताछ की। मैंने उन्हें रेप के बारे में बताया है। उन्हें सब कुछ बताने के बाद भी अभी तक चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं किया गया है।”

स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ सबूतों की बात करते हुए पीड़िता ने कहा कि मेरे पास पर्याप्त सबूत हैं और समय आने पर वीडियो क्लिप सहित सभी सबूत पेश किए जाएंगे। पीड़ित छात्रा ने कहा कि उसने अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए ही अपना वह वीडियो वायरल किया था, जिसमें उसने चिन्मयानंद से जान का खतरा बताया था।

इससे पहले पीड़िता द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करने के लिए एसआईटी ने शनिवार को स्वामी चिन्मयानंद के घर, आश्रम और उनके द्वारा संचालित होने वाले कॉलेज पहुंचकर जांच की। हालांकि चिन्मयानंद बाहर होने के कारण वे जांच दल के सामने उपस्थित नहीं हुए। इसके अलाला एसआईटी ने पीड़िता के उस हॉस्टल को भी देखा जहां वो रहती थी। बताया जा रहा है कि पीड़िता का कमरा सील है।

बता दें कि स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने के बाद पीड़िता अचानक गायब हो गई थी। बाद में पुलिस ने उसे राजस्थान से बरामद किया था और सुप्रीम कोर्ट में पेश किया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की थी।

गौरतलब है कि 23 अगस्त को पीड़िता ने एक वीडियो के जरिए स्वामी चिन्मयानंद पर गंभीर आरोप लगाए थे और कहा था कि स्वामी ने कई लड़कियों की जिदंगी बर्बाद की है। पीड़िता ने कहा था कि चिन्मयानंद कहता है कि कोई मेरा कुछ नहीं कर सकता है। मेरे पास सारे एविडेंस हैं। मेरी रिक्वेस्ट है कि आप मुझे इंसाफ दिलाइए।

इसे भी पढ़ें: बिहार में टूटने के कगार पर बीजेपी-जेडीयू की दोस्ती, बीजेपी नेता बोले- सीएम की कुर्सी खाली करें नीतीश कुमार

लोकप्रिय