चिराग ने भाई प्रिंस पर लगे रेप के आरोप पर दी सफाई, कहा- 'जो भी दोषी हो उसे सजा मिलनी चाहिए'

बिहार के समस्तीपुर से एलजेपी सांसद और चिराग के चचेरे भाई प्रिंस राज पर दिल्ली पुलिस ने पार्टी की एक पदाधिकारी से दुष्कर्म करने और सबूत नष्ट करने का मामला दर्ज किया है। शिकायतकर्ता ने एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान पर सबूत छिपाने की साजिश रचने का भी आरोप लगाया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के सांसद प्रिंस राज के खिलाफ दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज होने के बाद एलजेपी के नेता और सांसद चिराग पासवान ने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी हो उसे सजा मिलनी चाहिए। दर्ज प्राथमिकी में अपना भी नाम होने पर चिराग पासवान ने सफाई देते हुए कहा कि मैंने पहले भी कहा था यह मामला मेरे संज्ञान में आया था, तभी मैंने थाना जाने की सलाह दी थी।

बिहार की राजधानी पटना में बुधवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए प्रिंस राज पर दर्ज रेप के केस में खुद का भी नाम होने पर सफाई देते हुए चिराग पासवान ने कहा, "एफआईआर में मेरा नाम है, क्योंकि उसमें लिखा है कि मुझे इस मामले की जानकारी थी और यह बात मैंने पहले ही मानी भी है कि वह मेरी जानकारी में थी।"

चिराग पासवान ने कहा, "मैं पहला व्यक्ति हूं जिसने सलाह दी कि ये आपराधिक मामला है इसलिए पुलिस में जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अपराधिक मामले में मैं जांच अधिकारी तो हूं नहीं की जांच करूंगा।" चिराग ने कहा कि जो भी इस मामले में दोषी हो उसे सजा मिलनी चाहिए।


बिहार के समस्तीपुर से एलजेपी के सांसद और चिराग के चचेरे भाई प्रिंस राज पर दिल्ली पुलिस ने पार्टी के एक पदाधिकारी से दुष्कर्म करने और संबंधित सबूत नष्ट करने का मामला दर्ज किया है। दिल्ली की एक अदालत द्वारा 9 सितंबर को दिए निर्देश पर राज के खिलाफ कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई।

शिकायतकर्ता ने अपनी प्राथमिकी में एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान पर सबूत छिपाने की साजिश रचने का भी आरोप लगाया। सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता एलजेपी कार्यालय में अक्सर आती-जाती रहती थी, जहां उसने सांसद राज से मिलना शुरू किया। अपनी शिकायत में, उसने आरोप लगाया कि यह घटना 2020 में उसी पार्टी कार्यालय में हुई थी, जब उसे प्रिंस राज ने बहकाया था।

गौरतलब है कि एलजेपी के दिवंगत सांसद रामचंद्र पासवान के बेटे प्रिंस राज उन 5 सांसदों में शामिल हैं, जिन्होंने चिराग पासवान के नेतृत्व के खिलाफ पार्टी में बगावत कर चाचा पशुपति कुमार पारस के नेतृत्व में अलग गुट बना लिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia