बादल फटा, मची तबाही: अमरनाथ तीर्थयात्रियों को बचाते समय रिटायर्ड पुलिसकर्मी बाढ़ में बहे, कई लोगों की बचाई जान

श्रीगंगानगर ट्रैफिक थाने के पूर्व प्रभारी सुशील खत्री ने बादल फटने के कारण आई बाढ़ में बहने से कई लोगों को बचाया। इस दौरान वह खुद तेज बहाव का शिकार बन गए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने के बाद से भारतीय जवानों की टीमों ने मोर्चा संभाला हुआ है। लोगों को रेस्क्यू किया जा रहा है। इस बीच, पीड़ित लोगों को बाढ़ के पानी से निकालने के दौरान राजस्थान के बीकानेर के एक सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी पानी के तेज बहाव में बह गए।

जानकारी के मुताबिक, मृतक की पहचान श्रीगंगानगर ट्रैफिक थाने के पूर्व प्रभारी सुशील खत्री के रूप में हुई है।

बादल फटने से अब तक 15 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 40 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। खत्री उन 17 तीर्थयात्रियों के जत्थे में शामिल थे, जो 3 जुलाई को श्री गंगानगर से रवाना हुए थे और आपदा के नौ दिन पहले ही सेवा से रिटायर हुए थे। रिटायरमेंट के बाद उन्होंने अपनी पत्नी और बेटे के साथ हॉलिडे प्लान किया था।


बादल फटने के कारण आई बाढ़ के वक्त वह अमरनाथ गुफा के पास एक तंबू में थे, जिसमें कई अन्य तीर्थयात्री भी मौजूद थे। जैसे ही बाढ़ का पानी आया, तंबू बह गया। खत्री ने बादल फटने के कारण आई बाढ़ में बहने से कई लोगों को बचाया। इस दौरान वह खुद तेज बहाव का शिकार बन गए।

इसे भी पढ़ें: अमरनाथ गुफा के पास तबाही का मंजर! क्या होता है बादल फटना, कब फटते हैं बादल? पहाड़ों में ही क्यों फटते हैं? जानें

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;