पंजाब में विश्वविद्यालय और डिग्री कॉलेजों की परीक्षाएं रद्द, सीएम अमरिंदर सिंह ने किया ऐलान

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने पीसीएस परीक्षा में पूर्व सैनिकों के लिए प्रयासों की संख्या बढ़ाने की घोषणा की। साथ ही अनुसूचित जाति के अभ्यर्थिंयों के लिए असीमित अवसर देने का भी ऐलान किया। नई व्यवस्था के तहत अब सामान्य श्रेणी के पूर्व सैनिकों को 6 अवसर मिलेंगे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

बिपिन भारद्वाज

पंजाब सरकार ने कॉलेज और विश्वविद्यालय की परीक्षाएं रद्द करने का ऐलान किया है। सरकार ने ऐलान किया कि कोरोना महामारी के चलते ऐसा फैसला किया गया है, अलबत्ता ऑनलाइन परीक्षाएं जारी रहेंगी।

कोरोना महामारी के चलते पंजाब सरकार ने विश्वविद्यालयों और डिग्री कॉलेजों की परीक्षाएं रद्द करने का ऐलान किया है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को अपने साप्ताहिक कार्यक्रम “#AskCaptain” में फेसबुक के लाइव सेशन में इसका ऐलान किया।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों और डिग्री कॉलेजों के छात्रों को पिछले साल के परीक्षा परिणा के आधार पर प्रोमोट किया जाएगा। लेकिन जो छात्र अपना परीक्षाफल सुधारना चाहते हैं उन्हें बाद में कोरोना महामारी खत्म होने के बाद परीक्षाएं देने का विकल्प दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को इस संबंध में सारी औपचारिक प्रक्रियाएं पूरी करने को कहा गया है और अगले एक दो दिन में इसकी घोषणा कर दी जाएगी। स्कूल बोर्ड की परीक्षाओं पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य इस विषय में सीबीएसई के उस फैसले का पालन कर रहा है जो कुछ दिन पहले उसने सुप्रीम कोर्ट में बताया था।

लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी विद्यार्थियों से अनुरोध किया है कि परीक्षाएं रद्द होने के बाद भी वे अपनी पढ़ाई जारी रखें। उन्होंने कहा, “आने वाले भविष्य के लिए आपको मेहनत करनी है।”

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने पूर्व सैनिकों के लिए एक बड़ी पहल का ऐलान करते हुए पीसीएस परीक्षा में पूर्व सैनिकों के लिए प्रयासों की संख्या बढ़ाने की घोषणा की। साथ ही अनुसूचित जाति के अभ्यर्थिंयों के लिए असीमित अवसर देने का भी ऐलान किया। नई व्यवस्था के तहत अब सामान्य श्रेणी के पूर्व सैनिकों को 6 अवसर मिलेंगे। पहले सिर्फ चार अवसर ही मिलते थे। इसके अलावा पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थी पूर्व सैनिकों को अब 9 अवसर मिलेंगे।

लोकप्रिय
next