'कोयला, बड़े रेल नेटवर्क, ताप संयंत्रों में अप्रयुक्त क्षमता, फिर भी बिजली की किल्लत, मोदी है तो मुमकिन है'

चिदंबरम ने मोदी सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा, ''प्रचुर मात्रा में कोयला, बड़े रेल नेटवर्क, ताप संयंत्रों में अप्रयुक्त क्षमता, फिर भी बिजली की भारी किल्लत है। केंद्र सरकार को दोष नहीं दिया जा सकता है। यह कांग्रेस के 60 साल के शासन के कारण है!''

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश के कई हिस्सों में शुक्रवार को बिजली का संकट गहराया रहा। पिछले दिन के सवार्धिक 45 डिग्री सेल्सियस गर्मी ने बिजली की मांग को और भी बढ़ा दिया है। लेकिन बिजली कटौती और कोयले की कमी को लेकर विपक्षी दलों ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शनिवार को बिजली कटौती के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर तंज कसा है।

चिदंबरम ने मोदी सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा, ''प्रचुर मात्रा में कोयला, बड़े रेल नेटवर्क, ताप संयंत्रों में अप्रयुक्त क्षमता, फिर भी बिजली की भारी किल्लत है। केंद्र सरकार को दोष नहीं दिया जा सकता है। यह कांग्रेस के 60 साल के शासन के कारण है!''


उन्होंने व्यंग्य करते हुए कहा, ''कोयला, रेलवे या बिजली मंत्रालयों में किसी तरह की अक्षमता नहीं है। दोष उक्त विभागों के पिछले कांग्रेस के मंत्रियों का है!'' पूर्व केंद्रीय मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा, ''सरकार ने इसका सही समाधान ढूंढ़ लिया है: यात्री ट्रेन रद्द करो और कोयला लदी ट्रेन को चलाओ! मोदी है, मुमकिन है।''

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia