'लट्ठ से किसानों का इलाज' करने वाले बयान को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री के खिलाफ शिकायत, लोगों को भड़काने का आरोप

साइबर सिटी गुरुग्राम की जिला अदालत में कार्यरत दो वकीलों ने सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के हाल ही में वायरल हुए एक वीडियो के आधार पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

साइबर सिटी गुरुग्राम की जिला अदालत में कार्यरत दो वकीलों ने सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के हाल ही में वायरल हुए एक वीडियो के आधार पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। वायरल वीडियो में मुख्यमंत्री चंडीगढ़ में बीजेपी के किसान मोर्चा की एक बैठक के दौरान प्रदर्शन कर रहे किसानों के खिलाफ कथित तौर पर 'जैसे को तैसा' रणनीति के बारे में बात करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

शिकायतकर्ता अधिवक्ताओं की पहचान मनदीप सेहरा और दिनेश कुमार के रूप में हुई है।
उन्होंने शिकायत में कहा है, "3 अक्टूबर को एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें हरियाणा के सीएम ने उत्तरी और पश्चिमी हरियाणा के लिए 500, 700 और 1,000 के स्वयंसेवक समूह बनाने के लिए कहा है, क्योंकि दक्षिण हरियाणा में कोई समस्या नहीं है। उन्होंने 'उठा लो डंडे' (लाठी उठाकर तैयार रहना) जैसे शब्दों का प्रयोग किया है। उसके बाद हर जगह 'शठे शाठ्यं समाचरेत'.. इसका क्या अर्थ है, जैसे को तैसा।"


शिकायत में कहा गया है कि मुख्यमंत्री खट्टर यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा, "चिंता मत करो, जब आप वहां (जेल में) एक महीना, तीन महीने या छह महीने रहोगे तो बड़े नेता बन जाओगे। इतिहास में नाम भी दर्ज होगा।" शिकायत में कहा गया है, "यह वीडियो सोशल मीडिया और यूट्यूब पर उपलब्ध है और यहां तक कि कुछ अखबारों ने भी इस खबर को छापा है।" उन्होंने कहा कि वह अपने परिवार के साथ मुख्यमंत्री की टिप्पणी के बाद गहरे सदमे में हैं।

शिकायतकर्ता ने आगे कहा कि वे चिंतित हैं कि खट्टर का वीडियो वायरल होने के बाद राज्य में दंगे और हिंसा फैल सकती है। इसके अलावा, गुरुग्राम जिला कांग्रेस कमेटी के सदस्यों ने सोमवार को प्रदर्शन कर रहे किसानों के खिलाफ कथित टिप्पणी को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री का पुतला फूंका।


हरियाणा कांग्रेस की प्रवक्ता निकिता अरोड़ा ने एक बयान में कहा, "हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर कह रहे हैं कि एक लाठी उठाओ और जेल की परवाह मत करो। यह बेहद निंदनीय है। मुख्यमंत्री के बयान से यह साबित होता है कि सरकार देश में आपसी भाईचारे को नष्ट करने में लगी हुई है। लोगों को भड़का रही है और हिंसा को बढ़ावा दे रही है।"

बता दें कि खट्टर की इस कथित टिप्पणी को लेकर कांग्रेस ने हरियाणा के मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है। उनका बयान वायरल होने के बाद कांग्रेस ने उन्हें मुख्यमंत्री पद से तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, अगर एक मुख्यमंत्री हिंसा को बढ़ावा देगा तो राज्य में कानून-व्यवस्था कैसे चलेगी।


खट्टर का बयान तब सामने आया है, जब उत्तर प्रदेश में किसानों का आंदोलन हिंसक हो गया है और किसानों का आरोप है कि इस घटना में केंद्रीय मंत्री का बेटा शामिल है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia