यूपीः BJP राज में गोशालाओं की स्थिति दयनीय, प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के दावों और वादों पर साधा निशाना

प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर गौशालाओं की हालत पर अखबारों की खबरों को टैग करते हुए सीएम योगी से कदम उठाने की उम्मीद जताई है। उन्होंने कहा कि सीएम ब्रज जा रहे हैं जो गौ सेवा के लिए प्रेरणा है और उम्मीद है वह गौशालाओं की स्थिति में सुधार के लिए कुछ करेंगे।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में गौशालाओं की स्थिति बेहद 'दयनीय' है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य की योगी सरकार गौशालाओं की स्थिति में सुधार के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं कर रही है। उन्होंने गौशालाओं की बदहाली पर अखबरों की खबर को टैग करते हुए सीएम योगी से कदम उठाने की उम्मीद जताई है।

प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर गौशालाओं की स्थिति पर समाचार पत्रों की रिपोर्टों को टैग करते हुए लिखा, "मुख्यमंत्री जी आज ब्रज क्षेत्र जा रहे हैं। ब्रज ने पूरी दुनिया को गौ-सेवा की प्रेरणा दी। आशा है कि वे गौशालाओं की दुर्दशा के बारे में कुछ करेंगे। पिछले 5 सालों से उप्र की ज्यादातर गौशालाओं का यही हाल है। गौशालाओं की भारी दुर्दशा के बावजूद, सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है।"


खास बात ये है कि जुलाई में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को राज्य के सभी गौशालाओं का पूर्ण प्री-मानसून निरीक्षण करने का निर्देश दिया था। उन्होंने अधिकारियों से मवेशियों के लिए हरे चारे और भूसे सहित अन्य चीजों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा था। उन्होंने कहा था कि जिस आश्रय गृह में कुप्रबंधन के कारण गाय की मौत की सूचना है, वहां संबंधित अधिकारी या कर्मचारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इससे पहले 9 जून, 2020 को उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल ने गोहत्या रोकथाम (संशोधन) अध्यादेश, 2020 को मंजूरी दी थी। अध्यादेश के अनुसार, पहले अपराध के लिए, एक व्यक्ति को 1 लाख रुपये से लेकर 3 लाख रुपये तक का जुर्माना या एक से सात साल तक की जेल हो सकती है। जबकि दूसरे अपराध के लिए व्यक्ति को 10 साल तक की जेल की सजा हो सकती है और 5 लाख रुपये तक जुर्माना भी भरना पड़ सकता है। इन सब दावों के बावजूद सूबे में गौशालाओं की स्थिति दयनीय हो गई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia