कांग्रेस का सरकार पर हमला, कहा- राहुल गांधी के नेतृत्व से BJP की हालत हो गई है पतली, इसलिए ED को बनाया कठपुतली

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रेस से बात कि और उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व से बीजेपी की हालत हो गई है पतली, इसलिए बीजेपी ने ईडी को कठपुतली बनाया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज फिर अपना बयान ईडी में दर्ज करा रहे हैं। इस मामले कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रेस से बात कि और उन्होंने राहुल गांधी से ईडी द्वारा बार-बार तलब किए जाने पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा, “आप सब देख रहे हैं कि राहुल गांधी के बारे में क्या हो रहा है, सात साल बाद 5वें दिन 50 से 55 घंटे पूछताछ हुई। शतक मारने का ईडी का इरादा है या नहीं हम नहीं जानते हैं, लेकिन राहुल गांधी के नेतृत्व से बीजेपी की हालत हो गई है पतली, इस लिए बीजेपी ने ईडी को बनाया है कठपुतली। यह बड़ा साफ है। मैं सरकार और बीजेपी को यह बहुत साफ कहना चाहता हूं कि झूठ के पांव नहीं होते और सच छिपाए नहीं छिपता। संस्थानों को बरगलाने से राहुल गांधी नहीं निपटते।”

उन्होंने कहा कि यह बहुत साफ है कि द्वेश की भावना से इस तरह की मजाकिया 7 साल पुराने केस में 50 घंटे, पांच दिन किसी को बार-बार बुलाया जा रहा है। मोदी सरकार और सत्तारुढ़ बीजेपी जानती है कि देश के सभी अहम मुद्दों पर, जो आज देश को पीड़ित कर रहे हैं सता रहे हैं। चाहे वह अग्निपथ हो या चाहे वह कीमतों की मार हो, चाहे वह बेरोजगारी हो, इन मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए ही इस मुद्दे को फोकस किया जा रहा है। राहुल गांधी इस सरकार को वर्षों से आईना दिखा रहे हैं, इसलिए यह सब हो रहा है।’

सिंघवी ने कहा, “जब समन आए थे तो मैंने मीडिया के सामने कई सवाल रखे थे, जिनका ईडी और सरकार कभी जवाब नहीं देती। मैं यह बताना चाहता हूं कि वह प्रश्न क्या हैं? आखिर क्या ऐसी बात है कि ईडी के सवाल पांच दिन और 50 घंटों में खत्म नहीं हो रहे हैं। मुझे भी अनुभव कानून का है। मैंने 40 से 45 साल बिताए हैं।

उन्होंने आगे कहा कि अगर आप सोचते हैं कि राहुल गांधी और कांग्रेस इससे दब जाएंगे तो आप मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia