पंजाब पंचायत चुनावों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों ने बजाया प्रचंड जीत का डंका, अकाली दल को लगा करारा झटका

पंजाब के पंचायत चुनावों में कांग्रेस ने भारी जीत दर्ज की है और शिरोमणि अकाली दल की राजनीतिक वापसी को गहरा झटका लगा है। कांग्रेस के समर्थन वाले उम्मीदवारों ने लगभग सभी 13,726 पंचायतों में जीत दर्ज की है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

बिपिन भारद्वाज

पंजाब पंचायत चुनावों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों ने शानदार जीत दर्ज की है। इसके साथ ही पंजाब में राजनीतिक वापसी की बाट जो रहे शिरोमणि अकाली दल को करारा झटका लगा है और उसके ज्यादातर उम्मीदवरा हार गए हैं। हालांकि पंचायत चुनावों में भारी मतदान हुआ था, जिससे माना जा रहा था कि शायद इससे अकाली दल की वापसी होगी, लेकिन उसके अरमानों पर पानी फिर गया।

पंजाब की कुल 13,726 पंचायतों के लिए कुल 83,831 पंचों ने चुनाव लड़ा था। 30 दिसंबर को हुए मतदान में 46,754 पंच निर्विरोध चुन लिए गए। साथ ही 1863 सरपंच भी निर्विरोध चुने गए।

पंजाब चुनाव आयोग का कहना है कि विजेताओं की पूरी सूची अगले 3-4 दिनों में जारी की जाएगी। चुनाव के दौरान भटिंडा और फजिल्का जिलों में सर्वाधिक 86 फीसदी, मोहली में 84 फीसदी, पठानकोट में 82 फीसदी, पटियाला और संगरूर में 81 फीसदी और मोगा में 78 फीसदी मतदान हुआ था।

चुनावों में बुरी तरह हार का सामने करने के बाद अकाली दल और विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल आम आदमी पार्टी ने चुनावी नतीजों पर सवाल उठाया है। मतदान के दौरान दो-एक जगह से छिटपुट झड़पों की खबरें मिली थीं जिसके बाद चुनाव आग ने गुरदासपुर, लुधियाना, पटियाला और सास नगर जिलों के 8 गांवों में दोबारा मतदान के आदेश दिए हैं।

पंचायत चुनाव नतीजों को बीजेपी की सहयोगी अकाली दल के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है क्योंकि बादल परिवार ने इन चुनावों में जबरदस्त प्रचार किया था। इसके बावजूद बादल परिवार के करीबी रिश्तेदार उदयवीर सिंह ढिल्लों कांग्रेस के जबरजंग सिंह से बादल गांव में ही सरपंच का चुनाव हार गए।

इसके अलावा आम आदमी पार्टी के पंजाब संयोजक सुखपाल सिंह खैरा की भाभई करनबीर कौर भी चुनाव हार गईं।

कांग्रेस ने चुनाव नतीजों का स्वागत किया है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी विजयी उम्मीदवारों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि, “मुझे उम्मीद है कि नए चुने हुए पंच और सरपंच गांवों के विकास के लिए काम करेंगे और समाज में एक अच्छा बदलाव लाएंगे।”

इस चुनाव के लिए कुल 2,10,494 नामांकन दाखिल किए गए थे। इनमें से 48,111 नामांक सरपंच के लिए और 1,62,383 नामांकन पंच के लिए थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia