येदियुरप्पा ने जेटली-राजनाथ-गडकरी समेत बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व को दिए थे ₹1800 करोड़: कांग्रेस का डायरी बम

कांग्रेस ने मीडिया रिपोर्ट के हवाले से बीजेपी पर 1800 करोड़ रुपये रिश्वत लेने का आरोप लगाया है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कर्नाटक के सीएम रहने के दौरान बीएस येदियुरप्पा ने 1800 करोड़ रुपये बीजेपी के शीर्ष नेताओं को दिए। एक डायरी में सबके नाम मौजूद हैं।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस ने ऐन लोकसभा चुनाव के मौके पर डायरी बम फोड़ा है। एक पत्रिका में प्रकाशित खबर के आधार पर कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि जब बीएस येदियुरप्पा कर्नाटक के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी समेत कई बीजेपी नेताओं को सैकड़ो करोड़ रुपए दिए। कांग्रेस ने येदियुरप्पा की डायरी के हवाले से कहा कि बीजेपी को भी बहुत मोटी रकम दी गई।

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने येदियुरप्पा की डायरी के आधार पर प्रकाशित खबर को लेकर बीजेपी और पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ‘चौकीदार के साथ-साथ चौकीदार के चोरों की भी चोरी पकड़ी गयी है।’ कांग्रेस इस डायरी को लेकर जांच की मांग की है।

दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कर्नाटक की तत्कालीन येदियुरप्पा सरकार ने बीजेपी को 1800 करोड़ रुपये दिए थे। उन्होंने कहा कि मीडिया में आई रिपोर्ट से यह बात सामने आई है। उन्होंने कहा कि इस डायरी में येदियुरप्पा के हस्ताक्षर हैं। डायरी में करीब 12 नेताओं के नाम हैं। सुरजेवाला ने कहा कि डायरी के मुताबिक येदियुरप्पा ने राजनाथ सिंह से लेकर अरुण जेटली तक के बड़े नेताओं को रिश्वत दिए हैं।उन्होंने आगे कहा, “डायरी के अनुसार 2600 करोड़ रुपये वसूला गया और उसमें से सीधे 1000 करोड़ रुपये बीजेपी की सेंट्रल कमिटी को दिया गया। इनके अलावा जजों को भी रिश्वत दिए गए।”

कैरावान पत्रिका में प्रकाशित कथित डायरी का पन्ना
कैरावान पत्रिका में प्रकाशित कथित डायरी का पन्ना

उन्होंने एक कैरावान पत्रिका की रिपोर्ट के आधार पर कहा कि आयकर विभाग के पास एक ऐसी डायरी है जिसमें बीजेपी नेताओं को 150 करोड़ से लेकर दस करोड़ तक दिए जाने का ब्योरा दर्ज है। उन्होंने बताया कि इसी डायरी में कुछ जजों को 250 करोड़ दिए जाने का भी उल्लेख है। इस डायरी के मुताबिक, अरुण जेटली और नितिन गडकरी को 150-150 कोरड़, राजनाथ सिंह को 100 करोड़, मुरली मनोहर जोशी और आडवाणी को 50-50 करोड़ दिए जाने की बात दर्ज है। इसके अलावा बीजेपी की सेंट्रल कमेटी को 1000 करोड़ रुपए दिए जाने की बात है।

द कैरावान पत्रिका में प्रकाशित कथित डायरी का पन्ना
द कैरावान पत्रिका में प्रकाशित कथित डायरी का पन्ना

सुरजेवाला ने आगे कहा, “14 फरवरी, 2017 को येदियुरप्पा की डायरी से जुड़े वीडियो और इसकी ट्रांस्क्रिप्ट जारी की गयी थी, जो अनंत कुमार और 'जेल बर्ड' येदियुरप्पा जी के बीच बातचीत की थी। अब एक टेलिविजन चैनल के माध्यम से एक तथाकथित डायरी सार्वजनिक की गई है। और इसमें 1800 करोड़ रुपया बीजेपी नेतृत्व को पहुंचाने की बात दर्ज है। इस डायरी के हर पेज पर येदियुरप्पा के हस्ताक्षर हैं।”

सुरजेवाला ने कहा, “तथाकथित तरीके से 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि बीजेपी की केंद्रीय समिति को दिया गया। जिन तक यह पैसा पहुंचा उनके व्यक्तिगत नाम भी दर्ज हैं। ये वे लोग हैं जो देश चलाते हैं। कांग्रेस के ये सारी डिटेल एक डायरी के माध्यम से दिया जिसके अनुसार येदियुरप्पा और बीजेपी नेताओं के बीच करोड़ों का लेनदेन हुआ। इस डायरी की सच्चाई के बारे में आयकर, ईडी, सहित बीजेपी नेतृत्व से भी पूछा गया तो कोई जवाब नहीं आया।”

पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि, “बीजेपी नेतृत्व पर 1800 करोड़ की रिश्वत के इल्जाम हैं। ये वो लोग हैं जो पिछले 5 साल से इस देश को चला रहे हैं और पूरे देश की सरकार इनके हाथ में है।”

उन्होंने आगे कहा, “इस डायरी को लेकर कथित तौर से वित्त मंत्री जेटली जी के पास अधिकारी गये और सीबीडीटी चेयरमैन से शिकायत की गयी, लेकिन आगे कुछ हुआ नहीं। क्या ये सच नहीं कि आयकर विभाग ने रिश्वत के पैसों के लेनदेन के संबंध में सरकार से इजाजत मांगी कि इसकी जांच ईडी और दूसरे विभागों से करवाई जाए। लेकिन मोदी सरकार ने इसको कूड़ेदान में डाल दिया।”

उन्होंने आगे कहा, “अगर डायरी में कोई सच्चाई नहीं तो मोदी जी से लेकर सारे बीजेपी नेतृत्व ने इसकी जांच क्यों नहीं करवाई। क्या आज भी प्रधानमंत्री सामने आकर ये मानेंगे कि यदि इस डायरी में कोई सच्चाई नहीं तो वो इसकी जांच करवायेंगे।”

उन्होंने पूछा, “यदि 1800 करोड़ की रिश्वत ली गयी है तो ये पैसा कहां गया? सवाल सीधे हैं और इन सवालों का जवाब चोर चौकीदार को देना है। आज ही इस डायरी की निष्पक्ष जांच का आदेश दिया जाए और लोकपाल ये तरीका है जिसके जरिये जांच की जा सकती है।”

Published: 22 Mar 2019, 3:50 PM
लोकप्रिय