राफेल पर संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश करने की तैयारी, कांग्रेस की मांग, ‘चौकीदार’ का साथी रिपोर्ट न करे पेश

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि तत्कालीन वित्त सचिव और मौजूदा सीएजी राजीव मर्षि राफेल पर सीएजी रिपोर्ट कैसे पेश कर सकते हैं। सिब्बल ने कहा कि अगर मर्षि द्वारा तैयार रिपोट संसद में पेश की जाती है तो अपने आप में यह एक बड़ा घोटाला होगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

राफेल सौदे पर संसद में सोमवार को सीएजी रिपोर्ट पेश की जा सकती है। संसद में रिपोर्ट पेश होने से पहले कांग्रेस पार्टी ने सीएजी राजीव महर्षि और मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। इस रिपोर्ट को तैयार करने को लेकर कांग्रेस पार्टी ने सीएजी पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं।

दिल्ली के कांग्रेस मुख्याल में रविवार को प्रेस से बात करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि जिस वक्त 2015 में राफेल डील बदली गई थी। और फ्रांस सरकार के साथ पीएम मोदी ने नई डील की थी, उस वक्त राजीव मर्षि वित्त सचिव थे। उन्होंने कहा कि इस तरह के डील में वित्त सचिव का अहम रोल होता है। तत्कालीन वित्त सचिव और मौजूदा सीएजी राजीव मर्षि इस मामले में रिपोर्ट कैसे पेश कर सकते हैं। सिब्बल ने कहा कि अगर उनके द्वारा तैयार रिपोट संसद में पेश की जाती है तो यह अपने आप में एक बड़ा घोटाला होगा। सिब्बल ने कहा कि राजीव महर्षि को इस रिपोर्ट से खुद को अलग कर लेना चाहिए।

सिब्बल ने कहा कि राजीव महर्षि 24 अक्टूबर, 2014 को वित्त सचिव नियुक्त किए गए और 30 अगस्त 2015 तक वित्त सचिव रहे। सिब्बल ने कहा कि इसी बीच पीएम मोदी अप्रैल 2015 को फ्रांस गए थे, तभी उन्होंने राफेल विमान खरीदने का ऐलान किया था। सिब्बल ने कहा कि उस समय राजीव महर्षि वित्त सचिव थे।

सिब्बल ने कहा कि इस तरह के समझौते में वित्त मंत्रालय का अहम रोल रहता है। उस समझौते में व्यापार नियमों के मुताबिक, वित्त मंत्रालय शामिल रहती है। उन्होंने कहा कि जाहिर है कि जो भी रिपोर्ट उस वक्त बनी होगी उसमें राजीव मर्षि शामिल थे। सिब्बल ने कहा कि राजीव महर्षि इस रिपोर्ट में पहले खुद को बचाएंगे। इसके बात वे सरकार को बचाएंगे।

कांग्रेस नेता ने कहा, “करीब 58 हजार करोड़ रुपये के 36 राफेल विमान खरीदे गए, इससे देश की संपत्ति को नुकसान हुआ है। इस डील में भष्टाचार हुआ है, इसलिए इसकी जांच होनी चाहिए। लेकिन, सीएजी जांच कैसे करेंगे। अपने खिलाफ तो जांच कर नहीं सकते। वित्त सचिव रहते हुए जो उन्होंने फैसले लिए, उस फैसले के खिलाफ तो वे जांच नहीं कर सकते। राजीव महर्षि इस पद पर बैठे हुए हैं।”

सिब्बल ने कहा, “कमाल की बात यह है कि जब इस मालमे में सुप्रीम कोर्ट में बहस हुई थी। सुप्रीम कोर्ट ने दिसंबर 2018 में इस पर फैसला दिया। उस वक्त कोर्ट ने अपने फैसले में लिखा कि राफेल पर सीएजी की रिपोर्ट संसद में आ चुकी है।”

कांग्रेस नेता ने कहा, “यह बात कोर्ट को याचिका दाखिल करने वालों ने तो नहीं बताई होगी, जाहिर है यह बात कोर्ट को सरकार ने बताई थी। शायद सरकार को इस बात के बारे में जानकारी थी कि सीएजी की रिपोर्ट में क्या है। हालांकि उस समय यह रिपोर्ट संसद में पेश नहीं हुई थी।”

सिब्बल ने कहा, “फिलहाल हमें पूरी तरह से ऐसा लगता है कि इस सीएजी रिपोर्ट से सरकार का बचाव होने जा रहा है। शायद सोमवार को राफेल पर यह रिपोर्ट पेश की जा सकती है।”

कांग्रेस नेता ने इस दौरान उन अधिकारियों को आगाह भी किया जो इस मामले में मोदी सरकार का खुद को वफादार साबित करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा, “एक बात अधिकारियों को भी समझ लेनी चाहिए कि चुनाव आते हैं और जाते हैं। कभी हम विपक्ष में बैठेंगे और कभी हम सत्ता पक्ष में। जो अधिकारी पीएम मोदी को यह दिखाने की कोशिश कर रह है कि वे उनके बहुत वफादार हैं, उन अधिकारियों पर भी हमारी नजर है।”

Published: 10 Feb 2019, 6:21 PM
लोकप्रिय