मीडिया समूहों पर छापेमारी! कांग्रेस ने मोदी सरकार को बताया 'तानाशाही', कहा- PM बताए छापे सुनियोजित हैं या महज संयोग

मीडिया समूहों पर छापे को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश की रक्षा करने के बजाय, केंद्रीय एजेंसियों ने अब व्हिसलब्लोअर को डराने के लिए शिकारियों के रूप में काम करना शुरू कर दिया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश के बड़े मीडिया समूह दैनिक भास्कर और टीवी चैनल भारत समाचार के दफ्तरों और मालिकों के ठिकानों पर आयकर विभाग द्वारा की गई छापेमारी के बाद से विपक्ष मोदी सरकार पर हमलावर हो गया है। आयकर विभाग की कार्रवाई को लेकर विपक्ष ने कहा है कि ये दोनों समूहों की कोरोना काल, किसान आंदोलन और पेगासस पर रिपोर्टिंग को लेकर हुई है। कांग्रेस ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश की रक्षा करने के बजाय, केंद्रीय एजेंसियों ने अब व्हिसलब्लोअर को डराने के लिए शिकारियों के रूप में काम करना शुरू कर दिया है।

एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक सिंघवी ने कहा, दैनिक भास्कर पर आईटी छापे ने भाजपा सरकार की खतरनाक और कठोर प्रकृति को उजागर किया है। उन्होंने कहा, आज जो कुछ भी हुआ, उसे हमें कैसे परिभाषित करना चाहिए? कई शब्द हैं - अधिनायकवाद, अत्याचार, तानाशाही, फासीवाद, निरंकुशता, सीजरवाद और इसी तरह और आगे भी। उन्होंने कहा कि समाचार पत्र पर छापा मारा गया है, क्योंकि इसकी रिपोर्ट में गंगा में बहते कोविड पीड़ितों के शव का मुद्दा उठाया गया था। उन्होंने कहा कि अखबार ने उत्तर प्रदेश और बिहार के शहरों में नदीं किनारे कोविड पीड़ितों के शवों की भयावह दृष्टि को उजागर किया था। इन शवों को संभवत: दाह संस्कार के साधनों की कमी के कारण नदी में बहा दिया गया था।

कांग्रेस ने सवाल किया है कि आयकार के छापे सुनियोजित हैं या ये महज एक संयोग है? देश को चुप कराने के लिए मोदी जी संस्थानों का दुरूपयोग क्यों कर रहे हैं?। सिंघवी ने आगे कहा कि ये दुरुपयोग आपने कई टारगेट के विरुद्ध 7 वर्षों में देखा है - आज हम प्रेस और पत्रकारों के विषय में फोकस कर रहे हैं। यह एक भय दर्शाता है, यह हमारी संस्कृति और संविधान के विरुद्ध है, इसके मूल सिद्धांतों के विरुद्ध है। वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इस मामले पर ट्वीट किया है और कहा है कि ये सरकार डर गई है, जिसके चलते ये सब कर रही है। राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा है- कागज पर स्याही से सच लिखना, एक कमजोर सरकार को डराने के लिए काफ़ी है। राहुल गांधी ने ट्वीट को #RaidOnFreePress के साथ किया है।

इसके अलावा दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दैनिक भास्कर और भारत समाचार पर आयकर छापे मीडिया को डराने की कोशिश है। वे बीजेपी के खिलाफ बोलने वालों को बख्शना नहीं चाहते। वहीं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इसे पत्रकारिता पर मोदीशाह का प्रहार कहा है।

वहीं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इसे पत्रकारिता पर मोदीशाह का प्रहार कहा है। वहीं राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि दैनिक भास्कर और भारत समाचार पर इनकम टैक्स रेड मीडिया की आवाज दबाने की कार्रवाई है, ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि मोदी सरकार सच को बर्दाश्त नहीं कर सकती। बीजेपी की मानसिकता फासवादी है।

आपको बता दूं, आयकर विभाग ने कथित कर चोरी को लेकर देश भर में कई स्थानों पर मीडिया इकाई दैनिक भास्कर के कार्यालयों की तलाशी ली है। जानकारी के अनुसार दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, इंदौर, जयपुर और अहमदाबाद परिसरों में छापेमारी की गई है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia