बेतहाशा बढ़ती तेल कीमतों और केंद्र की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस का आज देशव्यापी आंदोलन,

तेल कीमतों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी और केंद्र की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस आज देश भर में धरने प्रदर्शन करेगी। कांग्रेस ने कहा है कि एक तरफ लोगों पर महामारी की मार है तो दूसरी तरफ सरकार तेल पर टैक्स के जरिए लोगों को लूट रही है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस पार्टी आज देश भर में केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतयों और खासतौर से पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन करेगी। इस क्रम में सभी राज्यों में कांग्रेस नेता पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे।

कांग्रेस ने कहा है कि एक तरफ महंगाई के इस दौर में जनता कोरोना महामारी से त्रस्त है, वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार पेट्रोल-डीजल पर टैक्स बढ़ाकर लोगों की जेब पर डाका डाल रही है। कांग्रेस का कहना है कि कोरोना कर्फ्यू और लॉकडाउन के चलते आम लोग, व्यवसाय और व्यापार ठप हुए हैं, और देश की अर्थव्यवस्था चरमरा रही है, ऐसे में केंद्र सरकार पेट्रोल-डीजल पर टैक्स बढाकर मुनाफा कमाने में लगी है।

इसी क्रम में दिल्ली में कांग्रेस कार्यकर्ता राजधानी के विभिन्न इलाकों में पेट्रोल पंपों पर धरना-प्रदर्शन करेंगे। दिल्ली कांग्रेस का कहना है कि संक्रमण काल में आपदा को अवसर बनाकर केन्द्र की मोदी सरकार और दिल्ली की केजरीवाल सरकार लगातार बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दामों पर नियंत्रण करने की बजाय दोनो सरकारें भारी भरकम टैक्स वसूलकर लोगों की जेब पर डाका डाल रही है।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार ने कहा कि, कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी जी के निर्देशानुसार सरकार के विरोध में पेट्रोल डीजल के दामों में अप्रत्याशित वृद्धि करने के लिए पेट्रोल पम्पों के सामने प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन किय जाएगा।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने दिल्ली सरकार को इस मसले पर आड़े हाथों लेते हुए कहा कि, केजरीवाल सरकार ने 6 वर्षों में पेट्रोल डीजल पर 25000 करोड़ रुपये के टैक्स के रुप में वसूले हैं और मोदी सरकार ने लगभग 7 वर्षों में 20.56 लाख करोड़ रुपये टैक्स के रुप में वसूले है।" दिल्ली कांग्रेस प्रमुख ने शीला दीक्षित सरकार को याद करते हुए कहा कि, 2013 में दिल्ली में पेट्रोल पर 20 प्रतिशत तथा डीजल पर 12.5 प्रतिशत वैट टैक्स वसूला जाता था जिसे केजरीवाल सरकार ने बीजेपी के साथ मिलकर 2015 में पेट्रोल पर वैट 30 प्रतिशत तथा डीजल पर 16.75 प्रतिशत कर दिया। "

उधर मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता पेट्रोल डीजल की कीमतों में हो रही लगातर मूल्य वृद्धि के विरोध में राज्य के सभी जिलों में पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे। मध्य प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि ऐसे समय की गई है जब जनता केंद्र एवं प्रदेश सरकार से मदद की उम्मीद कर रही है, वहीं केंद्र सरकार ने दो लाख 94 हजार करोड़ रुपये का टैक्स लगाया है जो सीधा जनता की जेब पर डाका डालने जैसा है।

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने प्रदेश के सभी कांग्रेसजनों से अपील की है कि 11 जून को सभी कांग्रेस कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी अपने क्षेत्र के निकटतम पेट्रोल पंप के सामने पेट्रोलियम पदार्थों (डीजल, पेट्रोल) की लगातार बढ़ती हुई मूल्य वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन करें। विरोध प्रदर्शन के दौरान कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए शासन के निर्देशों का पालन कर मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंस का पालन करें तथा कार्यक्रम को पूर्ण रूप से सफल बनाएं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia