तीन बड़े हिंदी भाषी राज्यों में आज से कांग्रेस का शासन, एमपी में कमलनाथ का शपथ समारोह बनेगा विपक्षी एकता का मंच

देश के तीन हिंदी भाषी राज्यों में सोमवार से कांग्रेस का शासन हो जाएगा। मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के मुख्यमंत्री शपथ लेंगे। लेकिन देश के ह्रदय मध्य प्रदेश में कमलनाथ का शपथ समारोह विपक्षी एकता का मंच बनने वाला है, जिसमें तमाम दलों के नेता शामिल होंगे।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

मध्यप्रदेश में कांग्रेस विधायक दल के नेता कमलनाथ सोमवार को एक भव्य समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगी। इस समारोह में कई विपक्षी दलों के नेताओं के पहुंचने की संभावना है और यह शपथ ग्रहण सामारोह विपक्षी एकता का मंच भी बनने वाला है।

मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह सोमवार की दोपहर डेढ़ बजे जंबूरी मैदान में होने जा रहा है। इस समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी, समाजवादी नेता शरद यादव, एनसीपी के शरद पवार, समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के अलावा टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी सहित कई अन्य दलों के नेताओं के भी आने की संभावना जताई जा रही है।

इस आयोजन के लिए जंबूरी मैदान को भव्य रूप से सजाया गया है। बीते दो दिनों से युद्धस्तर पर जंबूरी मैदान को आकर्षक ढंग से सजाने का काम जारी है। जंबूरी मैदान की पहचान बीजेपी के भव्य आयोजनों के लिए रही है, क्योंकि बीजेपी और शिवराज सरकार यहां समारोहों के जरिए अपनी ताकत का प्रदर्शन करती आई है। अब उसी जगह से कांग्रेस के मनोनीत मुख्यमंत्री कमलनाथ सोमवार को न केवल शपथ लेंगे, बल्कि देशव्यापी विपक्ष की एकता का नारा भी बुलंद होगा। राज्य में डेढ़ दशक बाद कांग्रेस की सत्ता में वापसी हुई है।

राज्यपाल आनंदीबेन द्वारा कमलनाथ को जब सरकार बनाने का आमंत्रण दिया गया तो कांग्रेस ने लाल परेड मैदान में शपथ का ऐलान किया था, मगर एक दिन बाद ही स्थान में बदलाव किया गया, अब शपथ ग्रहण समारोह जंबूरी मैदान में होने जा रहा है।

कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने भोपाल में पत्रकारों को बताया कि जंबूरी मैदान में तैयारियां जोरों पर है, पार्टी के प्रमुख नेताओं सहित अन्य दलों के नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है।

राजधानी के जंबूरी मैदान में भव्य पंडाल बनाया जा रहा है, आयोजन की तैयारी में वही अधिकारी और कर्मचारी सक्रिय हैं जो बीजेपी के शासनकाल में कार्यक्रम के आयोजन की जिम्मेदारी संभालते रहे हैं।

इसके बाद राज्यपाल आनंदी बेन पटेल छत्तीसगढ़ में मनोनीत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को शपथ दिलाएंगी। बघेल सोमवार को ही शाम साढ़े चार बजे शपथ लेंगे।

वहीं राजस्थान में अशोक गहलोत का शपथ समारोह भी सोमवार को ही है। अल्बर्ट हॉल में अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट शपथ लेंगे। शपथ समारोह सुबह 10 बजे होगा। अल्बर्ट हॉल में पहली बार किसी सरकार का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया जा रहा है।

पहले शपथ ग्रहण का यह कार्यक्रम जनपथ पर किया जाना था और इसके लिए हाईकोर्ट ने सशर्त अनुमति दी थी, लेकिन तमाम औपचारिकताएं पूरी नहीं करनी पड़ें, इस कारण समारोह स्थल में अचानक परिवर्तन कर दिया गया। आयोजन को भव्य रूप देने के लिए यूपीए के घटक दलों के प्रमुख नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है। हालांकि, इसके पीछे 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी भी छिपी हुई है।

लोकप्रिय