CAA-NRC के खिलाफ कन्हैया की यात्रा पर दो हफ्ते में 7 बार हमला, समर्थकों ने बीजेपी पर लगाए आरोप

संशोधित नागरिकता कानून और एनपीआर के खिलाफ पूरे बिहार में जन-गण-मन यात्रा निकाल रहे सीपीआई नेता और जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के काफिले पर पिछले दो हफ्ते में 7 बार हमला हुआ है। कन्हैया के समर्थकों ने हमलों के लिए बीजेपी पर आरोप लगाए हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार इन दिनों संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ बिहार में जन-गण-मन यात्रा निकाल रहे हैं। यह यात्रा 29 फरवरी को पटना के गांधी मैदान में एक विशाल जनसभा के साथ समाप्त होगी। इसी बीच मंगलवार को गया में एक बार फिर उनकी यात्रा के काफिले पर हमला हुआ। इस दौरान काफिले में शामिल कांग्रेस के एक विधायक की कार पर हमला कर तोड़फोड़ दिया गया।

जन-गण-मन यात्रा के आयोजकों के अनुसार गया में हुआ यह 7वां हमला है, जो संदिग्ध बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया। कन्हैया के समर्थको के अनुसार राज्यस्तरीय जन-गण-मन यात्रा को अभी दो हफ्ते हुए हैं, लेकिन इस दौरान बिहार के विभिन्न जिलों में यात्रा के काफिले पर 7 बार हमला हो चुका है।

मंगलवार को कन्हैया गया के शेरघाटी में एक रैली को संबोधित करने वाले थे। हालांकि, रैली मैदान में पहुंचने से पहले, उनके काफिले पर मोटरसाइकिल सवारों के एक समूह ने उनके वाहनों पर पथराव करते हुए हमला कर दिया। हालांकि, इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ है। सीपीआई के नेताओं ने बताया कि इस संबंध में एक पुलिस शिकायत दर्ज की गई है।

इस पूरे मामले पर एनपीआर-एनआरसी-सीएए के खिलाफ संयुक्त फोरम द्वारा एक बयान जारी किया गया है, जिसके बैनर तले यह अभियान चल रहा है। बयान में कहा गया है, "यात्रा शुरू होने के दो हफ्ते से भी कम समय में यह इस तरह का सातवां हमला। हमले के दौरान मोटरसाइकिल सवारों द्वारा लगाए गए नारे साफ तौर पर एक खास विचारधारा से उनके जुड़ाव का संकेत देते हैं।” यह एक तरह से बीजेपी की तरफ स्पष्ट इशारा है, जो राज्य में सत्ताधारी गठबंधन का हिस्सा है और कन्हैया कुमार की आलोचक रही है।

बयान में कहा गया है कि यह स्पष्ट है कि बीजेपी और राज्य सरकार, जिसमें भगवा पार्टी भी शामिल है, ‘जन-गण-मन यात्रा’ को मिल रहे समर्थन को देखकर घबरा गए हैं। बयान में आगे कहा गया है कि “हमारे प्रतिनिधिमंडल ने हाल ही में मुख्य सचिव से मुलाकात कर उन्हें लगातार हो रहे हमलों से अवगत कराया। अब हम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह करते हैं कि वे तत्काल हस्तक्षेप करें और यात्रा में हिस्सा लेने वालों या समर्थन करने वालों की सुरक्षा सुनिश्चित करें।”

गया में काफिले पर हुए हमले के बाद एक सार्वजनिक बैठक में विपक्षी महागठबंधन के नेताओं की फौज के साथ मंच साझा करते हुए कन्हैया ने ‘विभाजनकारी’ नागरिकता संशोधन कानून के लिए नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोला। कन्हैया के अलावा इस सभा को बिहार के पूर्व सीएम और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतनराम मांझी, कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान और अवधेश कुमार सिंह ने भी संबोधित किया।

लोकप्रिय