लोहड़ी की अग्नि में जली कृषि कानूनों की प्रतियां, सिंघु से टिकरी बॉर्डर तक किसानों ने जताया विरोध

मोदी सरकार के विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर करीब दो महीने से आंदोलन कर रहे किसानों ने आज लोहड़ी की अग्नि में कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर जोरदार विरोध जताया।

फोटोः ANI
फोटोः ANI
user

नवजीवन डेस्क

मोदी सरकार के विवादित कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 49 दिनों से आंदोलन कर रहे किसानों ने आज लोहड़ी के मौके पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर जोरदार विरोध जताया। किसानों ने दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर लोहिड़ी की अग्नि में विवादित कानूनों की प्रतियां जलाकर अपना रोष प्रकट किया और सांकेतिक विरोध किया।

सबसे पहले किसानों ने कृषि कानूनों का विरोध करते हुए सिंघु बॉर्डर पर कानून की प्रतियां जलाईं। इसके बाद टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने भी धरनास्थल पर तीन नए कृषि कानूनों की प्रतियों को जलाकर सांकेतिक विरोध जताया। इससे पहले दिन में किसानों ने सिंघु बॉर्डर पर गुड़ और मिठाई बांटी।

वहीं दिल्ली के जंतर-मंतर पर भी विवादित कानूनों की प्रतियां जलाई गईं। जंतर-मंतर पर पिछले कई दिनों से कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पंजाब के कांग्रेस सांसदों ने लोहड़ी की अग्नि में कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर अपना विरोध दर्ज कराया।

सिंघु बॉर्डर पर कृषि कानूनों की प्रतियां जलाए जाने के बाद अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआईकेएससीसी) ने कानूनों को नकारते हुए उन्हें रद्द करने की मांग उठाई। समिति ने कहा कि पूरे देश में आन्दोलन को तेज करने की तैयारी है। किसान संगठन ने बताया कि अब 26 जनवरी को निर्धारित किसान ट्रैक्टर परेड की तैयारी है, जो काफी जोरदार होगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next