कोराना वायरस: 80 हजार से 1,80 लाख तक स्वास्थ्य कर्मियों की हुई मौत, मई 2021 तक के आंकड़े, डब्ल्यूएचओ का दावा

स्वास्थ्य कर्मियों के मौत के अलावा, डब्ल्यूएचओ इस बात से भी चिंतित है कि कार्यबल का बढ़ता अनुपात बर्नआउट, तनाव, चिंता और थकान से पीड़ित है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि कोविड-19 महामारी ने जनवरी 2020 से इस साल मई तक अनुमानित 80,000 से 180,000 स्वास्थ्य कर्मियों की जान ले ली है। अनुमान मई 2021 तक डब्ल्यूएचओ को बताई गई 3.45 मिलियन कोविड-19 संबंधित मौतों के आधार पर एक नए डब्ल्यूएचओ वर्किं ग पेपर से लिया गया है।

डब्ल्यूएचओ के साप्ताहिक कोविड-19 ब्रीफिंग में गुरुवार को महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम घेबियस ने कहा, "हर स्वास्थ्य प्रणाली की रीढ़ उसका कार्यबल है। कोविड-19 एक शक्तिशाली प्रदर्शन है कि हम इन पुरुषों और महिलाओं पर कितना भरोसा करते हैं और हम सभी कितने असुरक्षित हैं जब हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करने वाले लोग खुद असुरक्षित हैं।"

वकिर्ंग पेपर में 119 देशों के उपलब्ध आंकड़े बताते हैं कि सितंबर 2021 तक, पांच में से दो स्वास्थ्य कर्मियों को औसतन पूरी तरह से टीकाकरण किया गया था, जिसमें क्षेत्रों और आर्थिक समूहों में काफी अंतर था।


अफ्रीकी और पश्चिमी प्रशांत क्षेत्रों में 10 में से एक को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, जबकि 22 ज्यादातर उच्च आय वाले देशों ने बताया कि उनके 80 प्रतिशत से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है। कुछ बड़े उच्च आय वाले देशों ने अभी तक डब्ल्यूएचओ को डेटा की सूचना नहीं दी है।


डब्ल्यूएचओ स्वास्थ्य कार्यबल विभाग के निदेशक जिम कैंपबेल ने कहा, "सभी स्वास्थ्य और देखभाल कर्मचारियों की रक्षा करना, उनके अधिकारों को सुनिश्चित करना और उन्हें एक सुरक्षित और सक्षम अभ्यास वातावरण में अच्छा काम प्रदान करना हमारा नैतिक दायित्व है। इसमें टीकों तक पहुंच शामिल होनी चाहिए।"

स्वास्थ्य कर्मियों की मृत्यु के अलावा, डब्ल्यूएचओ इस बात से भी चिंतित है कि कार्यबल का बढ़ता अनुपात बर्नआउट, तनाव, चिंता और थकान से पीड़ित है।

वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने नेताओं और नीति निर्माताओं से टीकों की समान पहुंच सुनिश्चित करने का आह्वान किया है ताकि स्वास्थ्य और देखभाल कर्मियों को प्राथमिकता दी जा सके।

ट्रेडोस ने उल्लेख किया कि पहले टीकों को मंजूरी दिए 10 महीने से अधिक समय से, "तथ्य यह है कि लाखों स्वास्थ्य कर्मचारियों को अभी भी टीका नहीं लगाया गया है, यह उन देशों और कंपनियों पर अभियोग है जो टीकों की वैश्विक आपूर्ति को नियंत्रित करते हैं।"

इसके अलावा, डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोविड-19 महामारी 2022 तक चलेगी, जो जरूरत से ज्यादा लंबी होगी, क्योंकि कई गरीब देशों को घातक संक्रामक बीमारी के खिलाफ टीके नहीं मिले हैं।




पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री और वर्तमान में वैश्विक स्वास्थ्य वित्त पोषण के लिए डब्ल्यूएचओ के राजदूत गॉर्डन ब्राउन ने कहा, अगर जी20 देश जल्दी से कार्य नहीं कर सकते हैं, तो यह "ऐतिहासिक अनुपात की नैतिक तबाही" होगी। इन देशों ने कोवैक्स को 1.2 बिलियन से अधिक वैक्सीन खुराक दान करने का संकल्प लिया है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक अब तक सिर्फ 15 करोड़ ही डिलीवर हुए हैं। कोविड के अधिकांश टीके उच्च आय या उच्च मध्यम आय वाले देशों में दिए गए हैं। अफ्रीका में विश्व स्तर पर प्रशासित खुराक का केवल 2.6 प्रतिशत हिस्सा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia