बिहार के मुख्यमंत्री आवास में कोरोना विस्फोट, 21 स्टाफ संक्रमित निकले, मचा हड़कंप

एक दिन पहले ही सीएम नीतीश कुमार ने गंभीर संक्रमण को देखते हुए राज्य में नाईट कर्फ्यू लगाने के साथ कई सख्त पाबंदियों का ऐलान किया था। इसके साथ ही उन्होंने जनता दरबार और समाज सुधार अभियान सहित अपने सभी कार्यक्रमों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया था।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना वायरस की तीसरी लहर के बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पटना स्थित सरकारी आवास पर संक्रमण पहुंच गया है। बुधवार को सीएम आवास पर सुरक्षाकर्मियों और अन्य स्टाफ सदस्यों सहित 21 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाए गए। इस खबर के आने के बाद से हड़कंप मच गया है और अन्य स्टाफ की जांच की जा रही है।

एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उच्च स्तरीय बैठक के बाद राज्य में नाईट कर्फ्यू लगाने के साथ कई सख्त पाबंदियों का ऐलान किया था। इसके साथ ही गंभीर संक्रमण को देखते हुए उन्होंने जनता दरबार और समाज सुधार अभियान सहित अपने सभी कार्यक्रमों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया है। एक अधिकारी के मुताबिक, सीएम नीतीश कुमार कोरोना की तीसरी लहर जैसे राज्य के अहम मामलों से जुड़े बैठकें करते रहेंगे।


बुधवार को पटना में नीतीश कुमार की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई, जिसमें केवल उन मंत्रियों और अधिकारियों ने भाग लिया, जिनकी रिपोर्ट कोविड निगेटिव थी। उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा, "मैंने बैठक में शारीरिक रूप से भाग लिया, क्योंकि मेरी रिपोर्ट निगेटिव थी। जो मंत्री कोरोना पॉजिटिव निकले, उन्होंने बैठक में वर्चुअली भाग लिया। हमने कोविड के मुद्दों और इसके निवारक उपायों पर चर्चा की है।"

बता दें कि बिहार में कोरोना तेजी से पांव पसारता जा रहा है। राजधानी पटना में सबसे बुरा हाल है। यहां बड़े पैमाने पर सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर, अधिकारी संक्रमित पाए गए हैं। इससे पहले दोनों डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी सहित चार कैबिनेट मंत्री संक्रमित हुए थे। इसके अलावा, अशोक चौधरी, भवन निर्माण मंत्री और आबकारी मंत्री सुनील कुमार भी पॉजिटिव पाए गए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia