दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर प्रवासी श्रमिकों का उमड़ा जनसैलाब, सीएम योगी के आदेश के बाद यूपी में नहीं मिली एंट्री

दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर मौजूद एसआई प्रचंड त्यागी ने कहा कि दिल्ली-यूपी सीमा पर गाजीपुर में यहां काफी भीड़ है। हम मजदूरों को ट्रेन या बस लेने के लिए कह रहे हैं। बिना वैध पास के किसी भी व्यक्ति को राज्य में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना लॉकडाउन में सड़कों पर हो रहे हादसों के बीच मजदूरों का अपने घरों के लिए पैदल सफर जारी है। इस बीच दिल्ली के गाजीपुर में दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों की भीड़ जमा हो गई है। बताया जा रहा है कि यह मजदूर पैदल जा रहे थे। जैसे ही मजदूरों ने यूपी बॉर्डर में घुसने की कोशिश उन्हें पुलिस-प्रशासन ने रोक लिया। औरैया हादसे के बावजूद इतनी बड़ी संख्या में मजदूर अपने घरों के लिए पैदल जाते नजर आए।

वहीं, मौके पर मौजूद एसआई प्रचंड त्यागी ने कहा, “दिल्ली-यूपी सीमा पर गाजीपुर में यहां काफी भीड़ है। हम उन्हें ट्रेन या बस लेने के लिए कह रहे हैं। बिना वैध पास के किसी भी व्यक्ति को राज्य में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।”

यूपी के औरैया जिले में शनिवार को हुए भीषण सड़क हादसे के बाद सीएम योगी ने सभी अधिकारियों से प्रवासी मजदूरों के पैदल चलने पर रोक लगाने के लिए कहा था। पुलिस अधिकारियों को जारी आदेश में स्पष्ट तौर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि किसी भी प्रवासी नागरिकों को पैदल, अवैध या असुरक्षित गाड़ियों से यात्रा न करने दिया जाए।


उधर, उत्तर प्रदेश बॉर्डर में घुसने की इजाजत नहीं मिलने की वजह से दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर प्रवासी मजदूरों की भीड़ जमा हो गई है। यूपी बॉर्डर में नहीं घुसने देने से नाराज मजदूर बार-बार ट्रैफिक रोकने की कोशिश करते नजर आए। हालांकि ट्रैफिक पुलिस ने उन्हें सड़क से हटाया और यातायात व्यवस्था बहाल की।

इससे पहले शनिवार को उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार ने दावा किया था कि प्रवासियों के लिए हर बॉर्डर पर 200 बसें बॉर्डर के जिलों में व्यवस्थित की गई हैं। ऐसे में यह देखना होगा कि दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर जमा प्रवासी मजदूरों को आखिर राज्य सरकार कैसे उनके घरों के लिए भेजती है। वहीं, मजदूर बॉर्डर पर ही बैठ गए हैं। कुछ मजदूरों ने कहा कि अब यहीं पर रात गुजरेगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia