कोरोना: देश में दूसरी लहर से तबाही के बीच तीसरी लहर के दावों से दहशत! जानें IIT प्रोफेसर ने क्या दावा किया

IIT कानपुर के इस प्रोफेसर का दावा है कि जुलाई तक कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप काफी हद तक काबू में आ जाएगा, लेकिन साथ ही उन्होंने एक और डराने वाला दावा किया है। उन्होंने डेटा एनालिसिस करके बताया है कि अक्टूबर में कोरोना की तीसरी लहर देश में शुरू हो जाएगी।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना की दूसरी ने तबाही मचा दी है। इस तबाही से अभी निजात मिला नहीं था कि तीसरी लहर आने की भविष्यवाणी भी हो चुकी है। जिसके बाद लोगों में डर का माहौल है। यह बात कोई और नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी के वैज्ञानिक सलाहकार विजय राघवन ने कही है। विजय राघवन के दावों पर IIT कानपुर के प्रोफेसर माणिंद्र अग्रवाल ने भी अपनी मुहर लगा दी है।

दैनिक भास्कर में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, IIT कानपुर के इस प्रोफेसर का दावा है कि जुलाई तक कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप काफी हद तक काबू में आ जाएगा, लेकिन साथ ही उन्होंने एक और डराने वाला दावा किया है। उन्होंने डेटा एनालिसिस करके बताया है कि अक्टूबर में कोरोना की तीसरी लहर देश में शुरू हो जाएगी।


हालांकि, प्रोफेसर ने अपनी इस स्टडी में यह नहीं बताया है कि तीसरी लहर देश के लिए कितनी खतरनाक होने वाली है। उन्होंने सुझाव दिया है कि केंद्र और राज्य सरकारों को अपनी तैयारियां पुख्ता रखनी चाहिए। देश को अपनी ओर से हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए।

इस दौरान उन्होंने कहा कि दूसरी लहर का पीक 10-15 मई के बजाय अब एक से दो हफ्ते आगे बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। हालांकि, अभी इस पर नजर रखी जा रही है और कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा।

IIT कानपुर के प्रोफेसर माणिंद्र अग्रवाल ने संभावित कोरोना की तीसरी लहर का असर कम करने ​के लिए तीन सुझाव भी दिए हैं। उनके मुताबिक सितंबर-अक्टूबर तक देश की ज्यादा से ज्यादा आबादी को कोरोना वैक्सीन लगाई जाए। नए कोविड वैरिएंट्स की जल्द पहचान कर उन्हें फैलने से रोका जाए। सभी राज्य सरकारें ट्रेसिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट पर ज्यादा फोकस करें।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia