देश में फिर कहर बरपाने लगा कोरोना! 24 घंटों में 13 लोगों की मौत, 7 दिनों के अंदर 59 लोगों की गई जान, दहशत में लोग

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के 8 राज्यों में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। केरल, महाराष्ट्र, दिल्ली कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और हरियाणा में कोरोना के मामले अधिक आ रहे हैं।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना अब फिर से कहर बरपाने लगा है। पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से 13 लोगों की मौत हो गई है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 6155 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद सक्रिय मामलों की संख्या 31194 हो गई है। इसके साथ, पिछले सात दिनों में 59 मौतें दर्ज की गई हैं। हैरत की बात यह है कि इनमें से 38 प्रतिशत केस कोरोना के नए वैरिएंट एक्सबीबी.1.16 के हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के 8 राज्यों में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। केरल, महाराष्ट्र, दिल्ली कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और हरियाणा में कोरोना के मामले अधिक आ रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, सक्रिय मामलों की संख्या बढकर 28,303 हो गयी है। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 4,47,45,104 हो गई है, वहीं मृतकों की संख्या बढक़र 5,30,943 हो गई है। इसी अवधि में कोरोना संक्रमण से स्वस्थ होने वालों का आंकड़ा 3,320 बढक़र 4,41,85,858 पर पहुंच गया है।

बात कें देश की राजधानी की तो दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 733 मामले सामने आए हैं वहीं 460 मरीज स्वस्थ हुए हैं। इस दौरान 2 लोगों की मौत भी हुई है। पॉजिटिविटी रेट भी बढ़कर 19.93 फीसदी पर पहुंच चुका है।


वहीं बिहार में भी कोरोना जानलेवा हो गया है। कोरोना के नए वेरिएंट की दस्तक के बाद अब प्रदेश में कोरोना से पहली मौत हो गई है। कोरोना से संक्रमित होकर गया में एक महिला की मौत हो गई है। खबरों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोरोना के 20 नए मरीज मिले है।

केंद्र सरकार कोरोना के मामलों को देखते हुए अलर्ट पर है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शुक्रवार को हाई लेवल मीटिंग की, जिसमें आने वाले दिनों में अस्पतालों में मॉक ड्रिल करने का निर्देश दिया। मांडविया ने राज्यों को संक्रमण के अधिक मामलों वाले स्थानों की पहचान करने, जांच बढ़ाने, बुनियादी ढांचा तैयारियां सुनिश्चित करने को कहा। राज्य के स्वास्थ्य मंत्रियों, प्रमुख एवं अतिरिक्त मुख्य सचिवों के साथ डिजिटल तौर से आयोजित हुई बैठक में मांडविया ने टीकाकरण में तेजी लाने को भी कहा। 

मांडविया ने कहा कि केंद्र और राज्यों को सहयोग की भावना से काम करना जारी रखने की जरूरत है, जैसा कि पिछली बार कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के दौरान किया गया था। उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य मंत्रियों से 10 और 11 अप्रैल को सभी अस्पतालों के बुनियादी ढांचे के संबंध में 'मॉक ड्रिल' करने और आठ तथा नौ अप्रैल को जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ स्वास्थ्य तैयारियों की समीक्षा करने का भी आग्रह किया। 

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;