दिल्ली में कोरोना पीड़ितों को अब जांच के लिए नहीं जाना होगा क्वारंटीन सेंटर, उपराज्यपाल ने पलटा अपना आदेश

इससे पहले दिल्ली के उपराज्यपाल ने पॉजिटिव पाए जाने वाले प्रत्येक कोरोना रोगी को क्वारंटीन सेंटर जाकर जांच कराने का आदेश जारी किया था, जिसका केजरीवाल सरकार विरोध कर रही थी। दिल्ली सरकार ने गृहमंत्री अमित शाह और उपराज्यपाल से यह नियम रद्द करने की मांग की थी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव रोगियों को क्वारंटीन सेंटर जाकर जांच कराने के आदेश को रद्द कर दिया गया है। गुरुवार शाम दिल्ली के उपराज्यपाल की अध्यक्षता में हुई दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की बैठक में यह निर्णय लिया गया। जिसके बाद उपराज्यपाल अनिल बैजल द्वारा जारी आदेश में क्वारंटीन सेंटर जाकर जांच करवाने के अनिवार्य नियम को वापस ले लिया गया है।

इससे पहले दिल्ली के उपराज्यपाल ने पॉजिटिव पाए जाने वाले प्रत्येक कोरोना रोगी को क्वारंटीन सेंटर जाकर जांच कराने का आदेश जारी किया था, जिसका केजरीवाल सरकार ने पुरजोर विरोध किया था। सीएम केजरीवाल चाहते थे कि उपराज्यपाल यह आदेश तुंरत रद्द करें। दिल्ली सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और उपराज्यपाल से यह नियम रद्द करने की मांग की थी।

इसके बाद गुरुवार शाम उपराज्यपाल निवास में डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की हुई बैठक में एलजी अनिल बैजल और दिल्ली के मुख्यमंत्री के बीच इस मुद्दे पर चर्चा हुई, जिसके बाद उपराज्यपाल ने यह नियम वापस ले लिया। अब स्पष्ट हो गया है कि राजधानी में कोरोना पीड़ितों को जांच के लिए क्वारंटीन सेंटर नहीं जाना होगा, बल्कि टीम खुद जाकर उनकी जांच करेगी।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस फैसले के बाद कहा कि "हर एक व्यक्ति को, चाहे उसको 103 डिग्री बुखार हो, पहले क्वारन्टीन सेंटर में जाकर चेकअप कराना पड़ रहा था। हमें खुशी है कि केंद्र सरकार ने अपना यह नियम वापस ले लिया है। अब दिल्ली सरकार की टीम कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों के घर पर जाकर उनका चेकअप करेगी।" सिसोदिया ने कहा, "अब कोरोना टेस्ट के दौरान टेस्ट सेंटर पर ही पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति की स्क्रीनिंग भी हो जाएगी।"

दिल्ली में अब कोरोना पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति के घर स्वास्थ्य विभाग की टीम दौरा करेगी। इस दौरान कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की जांच की जाएगी कि उसका उपचार घर पर ही हो सकता है या फिर उसे अस्पताल अथवा कोरोना केयर सेंटर में भर्ती करने की आवश्यकता है? साथ ही दिल्ली सरकार की टीम कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के घर का भी निरीक्षण करेगी। यदि वहां कोरोना रोगी को अन्य व्यक्तियों से अलग रखने के लिए पर्याप्त स्थान होगा, तभी रोगी को घर पर ही रखकर उसका उपचार किया जाएगा।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next