कोरोना वायरस से चीन में कोहराम के बाद भारत में खलबली, देश भर में सामने आए कई संदिग्ध मरीज, रहें सावधान!

चीन से शुरू हुई जानलेवा कोरोना वायरस बीमारी भारत तक पहुंच गई है। दिल्ली में कोरोना वायरस के 3 संदिग्ध मामले सामने आए हैं। ये तीनों मामले दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में सामने आए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में कोरोना वायरस से तीन संदिग्ध मरीज सामने आए हैं। राम मनोहर लोहिया अस्पताल में तीनों संदिग्धों को भर्ती कराया गया है। तीनों मरीजों को आईसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है।

केरल सरकार के मुताबिक, “त्रिवेंद्रम, एर्नाकुलम और त्रिशूर के अस्पतालों आईसोलेशन वॉर्डों में 5 लोग निगरानी में हैं। 431 लोगों की निगरानी उनके घरों पर की जा रही है।”

इससे पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार में कोरोना वायरस के संदिग्ध मिल चुके हैं। मध्य प्रदेश के उज्जैन में कोरोना वायरस का एक संदिग्ध मरीज मिला है, उसे अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में रखा गया है, जहां उसका इलाज जारी है। वायरस की पुष्टि के लिए नमूना जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे भेजा गया है। स्वास्थ्य अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार, उज्जैन निवासी छात्र चीन के वुहान में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है और यहां लौटा है। भारत के हवाईअड्डों पर जब चीन से लौट रहे लोगों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई, उसके पहले ही वह उज्जैन आ चुका था। उसे सर्दी, जुकाम और बुखार की तकलीफ है।


इसके अलावा जयपुर में कोरोना वायरस का संधिग्ध मरीज सामने आ चुका है। मरीज को जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि एसएमएस अस्पताल में भर्ती यह लड़का चीन में पढ़ाई करता है। छात्र में कोरोना वायरस के लक्षण मिलने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उधर, बिहार के छपरा की रहने वाली युवती में कोरोना वायरस के लक्ष्ण मिले हैं। युवती को पटना के मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। युवती कुछ ही दिन पहले चीन से लौटी है। युवती को पहले छपरा के एक अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान स्थानीय डॉक्टरों ने पाया कि युवती की बीमारी के लक्षण कोरोना वायरस से मिलते-जुलते हैं। इसके बाद डॉक्टरों ने युवती को पटना के पीएमसीएच में रेफर कर दिया। हालांकि पटना पहुंची युवती ने मीडिया से बात की और कहा, “मुझे कुछ नहीं हुआ है, न कोई कफ है न कोई खांसी है मुझे कलकत्ता एरपोर्ट से रिलीज कर दिया गया था, तीन दिन से घर पर हूं। 98 बुखार आने पर जबरदस्ती अस्पताल में पकड़ कर ले आए हैं।”


गौरतलब है कि चीन में कोरोना वायरस से कोहराम मचा हुआ है। इसकी गिरफ्त में आने से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो चुकी है और मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। खबरों के मुताबिक, 106 लोगों की मौत हो चुकी है। 1300 नए मरीज सामने आए हैं। इसी के चलते चीन से आने वालों की भारत में स्क्रीनिंग हो रही है।

कोरोना वायरस के लक्षण:

कोरोना वायरस से ग्रसित व्यक्ति को सिरदर्द, खांसी, गले में खराश, बुखार, लगातार छींक आना, अस्थमा का बिगड़ना, थकान महसूस होना, निमोनिया हो जाना या फेफड़ों में सूजन जैसे लक्षण हो सकते हैं। बूढ़े व्यक्तियों के लिए यह वायरस और घातक हो सकता है, क्योंकि जवान लोगों की तुलना में बूढ़े लोगों में रोगों से लड़ने की क्षमता कम होती है। विशेषज्ञों ने हाल ही में कोरोनो वायरस के जीन अनुक्रम को डिकोड किया जिसे 2019-एनसीओवी का नाम दिया गया है।

कोरोना वायरस को 1960 के दशक में पहली बार खोजा गया था। उसकी मुकुट जैसी आकृति की वजह से उसे कोरोना या क्राउन नाम दिया गया। ऐसे वायरस घातक नहीं होते हैं, लेकिन कभी-कभी यह आंत से संबंधी बीमारियों को पैदा कर सकते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 28 Jan 2020, 11:35 AM