कोरोना से हजारों मौतों पर सोनिया गांधी ने जताई चिंता, CWC बैठक में बोलीं- टीकाकरण के लिए आयु सीमा घटाए सरकार

CWC बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कोरोना वायरस से रोजाना सैकड़ों लोगों की मौत होने पर दुख जताते हुए कहा कि इस संकट की घड़ी में अपना कर्तव्य निभा रहे स्वास्थ्यकर्मियों और दूसरे कर्मचारियों को कांग्रेस सलाम करती है।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

देश में कोरोना के कहर के बीच मोदी सरकार बंगाल चुनाव में व्यस्थ है। लगातार कोरोना से लोगों की मौतें हो रही है लेकिन सरकार के रवैये से ऐसा लग रहा है कि इससे मोदी सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। उधर विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमलावर है। इन सबके बीच आज कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई। इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश में कोरोना की मौजूदा स्थिति को लेकर चिंता जाहिर की।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कोरोना महामारी की मौजूदा स्थिति को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। इसके साथ ही टीकाकरण के लिए आयु सीमा को घटाकर 25 साल किए जाने की मांग की है। सोनिया गांधी ने कहा कि अस्थमा, मधुमेह और कुछ अन्य बीमारियों से पीड़ित युवाओं को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाए जाने का अनुरोध किया है। सोनिया गांधी ने कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में यह भी कहा कि सरकार को कोरोना से निपटने के लिए जरूरी चिकित्सा उपकरणों और दवाओं को जीएसटी से मुक्त करना चाहिए। कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए सख्त कदम उठाने पर गरीबों को प्रति माह छह हजार रुपये की मदद देनी चाहिए।

सोनिया गांधी ने रोजाना सैकड़ों लोगों की मौत होने पर दुख जताते हुए कहा कि इस संकट की घड़ी में अपना कर्तव्य निभा रहे स्वास्थ्यकर्मियों और दूसरे कर्मचारियों को कांग्रेस सलाम करती है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र का उल्लेख किया और आरोप लगाया कि कई जगहों पर टीकों, ऑक्सीजन और वेंटिलेंटर की कमी हो रही है, लेकिन सरकार चुप्पी साधे है। इतना ही नहीं सोनिया गांधी ने आगे कहा कि सरकार को टीकाकरण के लिए अपनी प्राथमिकता पर पुनर्विचार करना चाहिए और आयुसीमा को घटाकर 25 साल करना चाहिए। अस्थमा, मधुमेह, किडनी और लीवर संबंधी बीमारियों से पीड़ित सभी युवाओं को टीका लगाया जाना चाहिए।" बता दें, कोरोना टीकाकरण के लिए अभी न्यूतम आयुसीमा 45 साल निर्धारित है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय