नए साल पर कोरोना का पहरा! कोविड के डर के बीच अधिकांश भारतीय घर पर मनाएंगे नया साल, रिपोर्ट में दावा

केवल 4 प्रतिशत नागरिकों ने कहा कि वे नए साल में बड़ी पार्टियों और सामुदायिक समारोहों में शामिल होंगे। 79 प्रतिशत लोगों के घर में रहने की संभावना है। वे या तो परिवार के साथ नए साल का जश्न मनाएंगे या बिल्कुल नहीं मनाएंगे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

एक रिपोर्ट में कहा गया है। जैसे-जैसे कोविड के मामले बढ़ते जा रहे है, ऐसे में लोग अधिक सावधानी बरत रहे है। 10 में से 8 लोग घर पर नए साल का जश्न मनाने की योजना बना रहे हैं।

केवल 4 प्रतिशत नागरिकों ने कहा कि वे नए साल में बड़ी पार्टियों और सामुदायिक समारोहों में शामिल होंगे। 79 प्रतिशत लोगों के घर में रहने की संभावना है। वे या तो परिवार के साथ नए साल का जश्न मनाएंगे या बिल्कुल नहीं मनाएंगे।

सोशल कम्युनिटी एंगेजमेंट प्लेटफॉर्म लोकल सर्कल्स के मुताबिक, जहां 12 फीसदी लोगों ने जश्न मनाने के लिए दोस्तों के घर जाने की योजना बनाई है, वहीं 5 फीसदी लोगों ने कोविड के बढ़ते जोखिम के मद्देनजर लोगों से मिलने-जुलने से दूरी बनाने का फैसला लिया है।

कोविड के जोखिम को देखते हुए, बड़े शहरों में और जश्न मनाने वालों को मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग के कोविड उपयुक्त मानदंडों का पालन करना चाहिए, भले ही उनका राज्य या जिला इन मानदंडों को अनिवार्य करता हो या नहीं।

कर्नाटक सरकार ने सलाह दी है कि सभी बड़ी सभाओं को सख्ती से बाहर रखा जाना चाहिए, और जहां तक संभव हो, दिन के दौरान देर रात और सुबह जल्दी जाने से बचना चाहिए।

60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों, कॉमरेडिटी वाले, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए, सरकार ने उन्हें इस तरह की सभाओं से दूर रहने की सलाह दी है।

होटल, पब, रेस्तरां, क्लब और रिसॉर्ट आदि के लिए, जहां समारोह आयोजित किए जा रहे हैं, सरकार ने मेहमानों की क्षमता तक सीमित कर दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि शुक्रवार को बीते 24 घंटों में भारत में 243 नए मामले सामने आए हैं, जबकि गुरुवार को 268 मामले सामने आए थे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;