राम नाम की लूट पर देश बीजेपी को माफ नहीं करेगा, कांग्रेस ने अयोध्या में जमीन कब्जे के खुलासे पर किया हमला

अयोध्या विकास प्राधिकरण ने 40 अवैध कॉलोनाइजरों की सूची जारी की है, जिसमें स्थानीय बीजेपी विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, पूर्व विधायक गोरखनाथ और मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के नाम शामिल हैं। राम मंदिर पर फैसले के बाद शहर में अवैध प्लाटिंग और कॉलोनियों की बाढ़ आ गई है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अयोध्या में बीजेपी के विधायक, मेयर समेत कई पार्टी नेताओं द्वारा जमीन कब्जाकर अवैध कॉलोनियां काटने के खुलासे पर कांग्रेस ने बीजेपी पर जोरदार हमला बोला है। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने आज कहा कि भगवान राम के नाम पर की गई इस लूट पर देश बीजेपी को माफ नहीं करेगा।

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि श्री राम के नाम पर अवैध ज़मीन खरीदने बेचने के घोटाले में 40 लोगों की सूची जारी हुई है, जिसमें बीजेपी के विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, मेयर ऋषिकेश उपाध्याय, पूर्व विधायक गोरखनाथ के नाम भी शामिल हैं। इस जमीन घोटाले में न केवल बीजेपी के विधायक और नेताओं ने लूट मचाई है बल्कि नौकरशाहों और उनके रिश्तेदार, यहां तक कि स्थानीय राजस्व अधिकारियों, जिनका काम भूमि लेनदेन को प्रमाणित करना होता है, उन्होंने भी वहां पर बड़ा घोटाला किया।

बता दें कि अयोध्या विकास प्राधिकरण (एडीए) ने 40 अवैध कॉलोनाइजरों की सूची जारी की है, जिसमें स्थानीय बीजेपी विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, पार्टी के पूर्व विधायक गोरखनाथ और मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के नाम शामिल हैं। सुल्तान अंसारी और उनके पिता नन्हे मियां, (जिन्होंने 2 करोड़ रुपये की जमीन से 18 करोड़ रुपये कमाए) भी सूची में शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में अवैध कॉलोनियां काटने का बड़ा खेल! BJP विधायक वेद प्रकाश और मेयर पर आरोप, लिस्ट में 40 नाम शामिल

एडीए अधिकारियों के मुताबिक, जमीन और संपत्ति की अवैध बिक्री में कई साधु भी शामिल हैं। राम मंदिर के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से अयोध्या में अवैध प्लाटिंग और अवैध कॉलोनियों की बाढ़ आ गई है। अवैध प्लाटिंग और कॉलोनियों को लेकर हलचल उस समय तेज हो गई, जब बीजेपी सांसद लल्लू सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर जमीन बेचने के इस खेल की एसआईटी जांच की मांग की।


सांसद लल्लू सिंह ने पत्र में लिखा है कि अयोध्या में भूमाफियाओं का ऐसा दबदबा है कि पूर्व में संबंधित तात्कालिक अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ मिलकर नजूल और डूब-क्षेत्र (दरिया बुर्ज) की जमीनों में कागज में लिख कर के लोगों को गुमराह कर जमीनों को एन केन प्रकारेण उनके नाम कर दिया गया। इसमें रोजी-रोटी कमाने वाले जो व्यक्ति शहरों में रहना चाहते हैं, ऐसे लोगों के साथ उक्त जमीन को बेचकर करोड़ों अरबों रुपयों की हेराफेरी की गई है। जमथरा घाट से गोलाघाट तक की जमीनों पर भूमाफिया का व्यापार फल फूल रहा है।

खबरों के मुताबिक, इस संबंध में राजस्व विभाग की ओर से भी सूची भेजी गई है। एडीए के उपाध्यक्ष विशाल सिंह ने कहा कि जांच जारी है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;