सांसों पर संकट: चेन्नई के सरकारी अस्पताल में 11 लोगों की मौत, परिजनों का आरोप- ऑक्सीजन की कमी से गई जान

कोरोना संकट के बीच अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन को लेकर मरीजों दर दर भटक रहे हैं। इसी वजह से संक्रमित मरीज तड़प तड़पकर दम तोड़ रहे हैं। ऐसा ही एक ताजा मामला चेन्नई के सरकारी अस्पताल से सामने आया है। चेन्नई के सरकारी अस्पताल में 10 मरीजों की मौत हो गई है।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

चेन्नई के सरकारी चेंगलपट्टू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कम से कम 11 मरीजों की मौत हो गई। मौत के कारणों की जांच का आदेश दिया गया है। हालांकि, आरोप लगाया जा रहा है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण रोगियों की मृत्यु हुई, वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि ऐसा नहीं है क्योंकि अस्पताल में पर्याप्त ऑक्सीजन का स्टॉक मौजूद है।

स्वास्थ्य सचिव ने बताया, शुरूआती रिपोर्ट के अनुसार, अस्पताल में ऑक्सीजन का पर्याप्त भंडार है। यह ऑक्सीजन की आपूर्ति का मुद्दा नहीं है। केवल एक जांच से मौत का कारण पता चलेगा।

उन्होंने बताया कि कई अन्य मरीज हैं जो ऑक्सीजन की आपूर्ति पर थे और वे प्रभावित नहीं थे।
गवर्नमेंट वेल्लोर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कुछ दिन पहले, मरीजों के परिजनों ने आरोप लगाया कि ऑक्सीजन की आपूर्ति में व्यवधान के कारण छह मरीजों की मौत हो गई।

अधिकारी के मुताबिक, अस्पताल के ऑक्सीजन प्लांट पर काम चल रहा था और कोविड मरीजों के परिजनों ने आरोप लगाया कि मौत ऑक्सीजन की आपूर्ति में व्यवधान के कारण हुई।अस्पताल के कोविड वार्ड में 150 से अधिक मरीज हैं। कई मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित नहीं हुई। सरकारी वेल्लोर मेडिकल कॉलेज अस्पताल के मामले में निदेशक चिकित्सा शिक्षा द्वारा जांच का आदेश दिया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia