तूफान 'गुलाब' ने दिखाया रौद्र रूप, आंध्र में समुद्र में गिरे 5 मछुआरे, दो की मौत, एक लापता

चक्रवात 'गुलाब' ने शाम छह बजे ओडिशा के गोपालपुर और आंध्र प्रदेश के कलिंगपट्टनम के बीच दस्तक दी। तटीय क्षेत्र में हवा की गति धीरे-धीरे 75-85 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़कर 95 किमी प्रति घंटे हो जाएगी। इसका ओडिशा के गंजम और गजपति में अधिक प्रभाव पड़ेगा।

फोटोः @POLICESRIKAKULM
फोटोः @POLICESRIKAKULM
user

नवजीवन डेस्क

चक्रवाती तूफान गुलाब ने आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटीय क्षेत्रों में दस्तक दे दी है। गुलाब तूफान ने दस्तक के साथ ही विकराल रूप दिखाना शुरू कर दिया है। तूफान की वजह से आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम में समुद्र में उठ रही तेज लहरों के नाव से टकराने की वजह से पांच मछुआरे समुद्र में गिर गए। इन पांच मछुआरों में से 2 की मौत हो गई है, जबकि 3 सुरक्षित तट पर पहुंच गए। वहीं नाव पर सवार एक शख्स अभी लापता है।

इससे पहले आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम में भारी बारिश और तेज हवाओं के साथ चक्रवात गुलाब ने दस्तक दी। श्रीकाकुलम के संयुक्त कलेक्टर सुमित कुमार ने कहा कि अगले 2 घंटे महत्वपूर्ण हैं। हमें उम्मीद है कि हवाएं 90-100 किमी/घंटा की रफ्तार से चलेंगी। एनडीआरएफ की दो टीमें और एसडीआरएफ की 4 टीमें यहां पहुंच चुकी हैं। भारी बारिश से बाढ़ आ सकती है, जो एक बड़ी चुनौती है।


वहीं भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि चक्रवात 'गुलाब' के पहुंचने की प्रक्रिया शाम छह बजे ओडिशा के गोपालपुर और आंध्र प्रदेश के कलिंगपट्टनम के बीच शुरू हुई। भुवनेश्वर मौसम केंद्र ने एक ट्वीट में कहा, "बादल बैंड ने तटीय क्षेत्रों को छुआ है और इस प्रकार उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और आसपास के दक्षिण तटीय ओडिशा पर लैंडफॉल प्रक्रिया शुरू हो गई है। सिस्टम अगले 3 घंटों के दौरान कलिंगपट्टनम और गोपालपुर के बीच कलिंगपट्टनम के उत्तर में लगभग 25 किमी उत्तर में तटों को पार करेगा।"

मौसम केंद्र के वैज्ञानिक यू.एस. दास ने कहा कि तटीय क्षेत्र में हवा की गति धीरे-धीरे बढ़कर 75-85 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़कर 95 किमी प्रति घंटे हो जाएगी। उन्होंने कहा कि चक्रवात का ओडिशा के गंजम और गजपति जिलों पर अधिक प्रभाव पड़ेगा। इसके अलावा, रायगडा, मलकानगिरि, कोरापुट और नबरंगपुर जैसे जिलों में भी 55-65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं।


आईएमडी की भविष्यवाणी के आलोक में विशेष राहत आयुक्त पी.के. जेना ने कहा, "हम रायगडा, गजपति, गंजम और कोरापुट के जिला प्रशासन के संपर्क में हैं। अब तक, हमें उन जिलों में भारी बारिश या हवा के झोंके के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। हालांकि, गजपति जिले में कम से मध्यम बारिश की गतिविधि शुरू हो गई है।"

रिपोर्ट के अनुसार, दोपहर तक 16,000 से अधिक लोगों को निचले इलाकों और संवेदनशील इलाकों से निकाला गया है। जेना ने कहा कि लगभग 600 गर्भवती, वृद्ध और विकलांग लोगों को भी संभावित प्रभावित जिलों में सुरक्षित आश्रय या अस्पतालों में स्थानांतरित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि यह प्रणाली कल (सोमवार) दोपहर तक ओडिशा को पार कर जाएगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia