हालात

गुजरात पर ‘वायु’ का खतरा गहराया, अगले 24 घंटे भारी, अब सिर्फ 100 किमी दूर, 500 गांव खाली कराए गए-  ताजा अपडेट

चक्रवात ‘वायु’ बेहद गंभीर तूफान का रूप ले चुका है। गुजरात के लिए अगले 24 घंटे काफी भारी हो सकते हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, वायु चक्रवात अब राज्य से महज 100 किमी दूर रह गया है। 13 जून की सुबह 170 किमी प्रति घंटे तक की रफ्तार से तूफान गुजरेगा।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

चक्रवाती तूफान 'वायु' 13 जून को गुजरात पहुंचेगा। मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 24 घंटे में तूफान गंभीर रूप ले सकता है। गुजरात के तट पर गुरूवार की सुबह चक्रवात ‘वायु’ की आशंकाओं के बीच 1.6 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया गया है। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि सौराष्ट्र और कच्छ के निचले इलाकों से लोगों को निकाला गया है। इन क्षेत्रों के बंदरगाहों और हवाई अड्डों पर सुरक्षा की दृष्टि से कामकाज रोक दिया गया है। मौसम की ताजा जानकारी के अनुसार यह चक्रवात अब बेहद गंभीर की श्रेणी में आ गया है और यह अब दक्षिण के वेरावल से पश्चिम में द्वारिका तक कहीं भी गुरूवार दोपहर तक तट से टकरा सकता है।

मौसम विभाग ने कहा है कि, ‘‘चक्रवात वायु बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया है। इसके कारण बृहस्पतिवार सुबह 145 से 170 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी चलेगी।’’ भारतीय वायु सेना के एक अधिकारी ने बताया कि पश्चिमी तट पर रह रहे लोगों को एहतियाती तौर पर निकालने में आईएएफ की मदद करने के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमें गुजरात पहुंच गई हैं।

इस बीच वेस्टर्न रेलवे ने 40 ट्रेनें रद्द कर दी हैं। साथ ही, 28 ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द करने का ऐलान किया है। इसके अलावा साइक्लोन से प्रभावित होने वाले लोगों को निकालने रेलवे ने 3 स्पेशल ट्रेनें चलाने का फैसला किया है। ये ट्रेनें गुरुवार (13 जून) को राजकोट डिविजन, भावनगर डिविजन और वेरावल से चलेंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों को सुरक्षित रहने के लिए स्थानीय एजेंसियों द्वारा मुहैया कराई जा रही जानकारी पर अमल करते रहने के लिए कहा है। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा है, ‘‘चक्रवात वायु से प्रभावित होने वाले सभी लोगों की सुरक्षा और हित के लिए प्रार्थना करता हूं। सरकार और स्थानीय एजेंसी जानकारी मुहैया करा रही हैं, जिसका मैं प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों से अनुसरण करने का अनुरोध करता हूं।’’

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने चक्रवात से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम उठाने का निर्देश दिया। वहीं गुजरात सरकार ने बताया कि चक्रवात से कच्छ, मोरबी, जामनगर, जूनागढ़, देवभूमि-द्वारका, पोरबंदर, राजकोट, अमरेली, भावनगर और गिर-सोमनाथ जिले प्रभावित हो सकते हैं।

लोकप्रिय