चक्रवात ‘वायु’ गुजरात तट से टकराया, कई जिलों में भारी बारिश  

जैसा कि आशंका थी ‘भयावह चक्रवाती तूफान’ ने गुजरात में दस्तक नहीं दी, लेकिन यह सौराष्ट्र तटीय क्षेत्र से होकर गुजर रहा है, जिससे अमरेली, गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर, राजकोट, जामनगर और द्वारका जिले प्रभावित हुए। इस कारण भारी बारिश हुई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आईएएनएस

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुरुवार को कहा कि उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ता चक्रवात 'वायु' दोपहर बाद गुजरात के सौराष्ट्र तट से टकराया। इससे तटवर्ती इलाकों में भारी बारिश हुई, जिसके देर शाम तक जारी रहने की उम्मीद है। जैसा कि आशंका थी 'भयावह चक्रवाती तूफान' ने गुजरात में दस्तक नहीं दी, लेकिन यह सौराष्ट्र तटीय क्षेत्र से होकर गुजर रहा है, जिससे अमरेली, गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर, राजकोट, जामनगर और द्वारका जिले प्रभावित हुए। इस कारण भारी बारिश हुई।

अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार ने कहा कि आईएमडी ने सूचित किया है कि चक्रवात ने अपनी दिशा बदल ली है। तेज हवाएं चल सकती हैं और बारिश हो सकती है और हम अभी भी तैयारी की अवस्था में हैं।" उन्होंने कहा, "चक्रवात वायु वेरावल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम व पोरबंदर से 150 किलोमीटर दक्षिण में है। चक्रवात उत्तर की तरफ बढ़ रहा है और सौराष्ट्र को पार कर रहा है।"

गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एससीओ शिखर सम्मेलन के लिए बिश्केक पहुंचने के तुरंत बाद मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से फोन पर बात की और चक्रवात की तैयारियों के बारे में जानकारी ली और तूफान के प्रभावों को कम करने के लिए केंद्र से सभी सहायता और समर्थन का आश्वासन दिया।

स्काईमेट वेदर ने पहले कहा था कि 'बहुत गंभीर चक्रवात' श्रेणी 2 से कमजोर होकर श्रेणी 1 चक्रवाती तूफान हो सकता है। हालांकि, हवा की रफ्तार 135 से 145 किमी प्रतिघंटा रहेगी और 175 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा के झोंके चल सकते हैं।

हालांकि इसके पहले ही गुजरात ने करीब 3.1 लाख लोगों और सौराष्ट्र से लगे हुए केंद्र शासित प्रदेश दीव से 10 हजार लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है।

Published: 13 Jun 2019, 7:35 PM
लोकप्रिय