हालात

गुजरात में आ रहा है ‘वायु’, तूफान के तांडव से पहले जारी किया गया अलर्ट, जानिए किन इलाकों में होगा इसका असर

गुजरात में एनडीआरएफ की 36 टीमें तैनात की गई हैं। हर टीम में 45 सदस्य हैं। कोस्टगार्ड, आर्मी, नेवी और वायुसेना को भी अलर्ट पर रखा गया है। 10 कंपनियां आर्मी की भेजी जा रही हैं, जबकि 24 कंपनी स्टैंड बाई पर हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

गुजरात के तट से टकराने में ‘वायु’ तूफान को 24 घंटे से भी कम का वक्त बचा है। 140 से 165 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाला ‘वायु’ तूफान गोवा और मुंबई से गुजरने के बाद गुजरात पहुंचेगा। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि ‘वायु’ तूफान 13 जून को सुबह 3 से 4 बजे के बीच गुजरात के तट से टकराएगा। जब यह तूफान गुजरात के तट से टकराएगा तो उस वक्त इसकी रफ्तार करीब 165 किमीटर तक हो सकती है। इसके साथ ही मौसम विभाग ने सौराष्ट्र और कच्छ में भारी बारिश की भी आशंका जताई है। जिन 10 जिलों में तूफान का सबसे ज्यादा असर होगा, उनमें कच्छ, द्वारिका, पोरबंदर, राजकोट, मोरबी, अमरेली, भावनगर, जामनगर और गिरी सोमनाथ शामिल है। गुजरात के अलावा महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक और दमन-दीव में तूफान का असर देखने को मिल सकता है।

‘वायु’ तूफान के आने से पहले इससे होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए तैयारी शुरू हो चुकी है। मोदी सरकार से लेकर रुपाणी सरकार तक पर अलर्ट हैं। दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह ने हाईलेवल मीटिंग की है, जिसमें आपदा प्रबंधन से जुड़े सभी बड़े अफसर मौजूद थे। संबंधित विभाग को तत्काल सभी प्रभावी कदम उठाने के निर्देश मिले हैं। गुजरात में एनडीआरएफ की 36 टीमें तैनात की गई हैं। हर टीम में 45 सदस्य हैं। सभी टीम नाव, पेड़ काटने के औजार और जरूरी उपकरणों से लैस हैं। कोस्टगार्ड, आर्मी, नेवी और वायुसेना को भी अलर्ट पर रखा गया है। 10 कंपनियां आर्मी की भेजी जा रही हैं, जबकि 24 कंपनी स्टैंड बाई पर हैं।

गुजरात में तूफान से सबसे ज्यादा खतरा समुद्री इलाकों में है। ऐसे गुजरात सरकार ने समुद्री इलाकों में रह रहे लोगों को अलर्ट जारी किया है। सरकार ने लोगों से समुद्री इलाकों को खाली करने के लिए कहा है। प्रशासन समुद्री इलाकों में जाकर लोगों को वहां से सुरक्षित स्थानों पर भेज रहा है। सीएम रूपाणी ने समुद्री इलाकों में अपने 10 मंत्रियों को पहुंचने के निर्देश दिए हैं। करीब 3 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने की चुनौती है। इसके लिए 700 राहत शिविर बनाए गए हैं।

वहीं सीएम रूपाणी सरकार ने राज्य के 10 जिलों में 13-14 जून को स्कूल-कॉलेज को बंद करने का आदेश दिया है। आपात सेवा के साथ पोर्ट और ट्रांसपोर्ट के सभी कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं। सीएम ने 13 से 15 जून के बीच होने जा रहे शाला प्रवेशोत्सव कार्यक्रम को भी रद्द कर दिया है। श्री सोमनाथ ट्रस्ट ने त्रिवेणी संगम घाट पर होने वाले गंगा दशहरा उत्सव और महाआरती को रद्द कर दिया है।

तूफान ‘वायु’ के लैंडफॉल से पहले गुजरात में सैलानियों को अलर्ट जारी किया गया है। अलर्ट में कहा गया है कि सैलानी कच्छ और द्वारिका समेत समुद्री इलाकों में जाने से बचें। गुजरात के तट पर 13 जून को तूफान ‘वायु’ लैंडफॉल करेगा।

राहुल गांधी ने वायु तूफान को लेकर गुजरात के लोगों को अलर्ट रहने के लिए कहा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “चक्रवात 'वायु' गुजरात तट के करीब पहुंने वाला है। मै गुजरात के सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि वे इसके रास्ते में आने वाले सभी क्षेत्रों में मदद के लिए तैयार रहे। मै चक्रवात से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों के सभी लोगों की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं।”

Published: 12 Jun 2019, 9:15 AM
लोकप्रिय