दलितों ने तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई मंदिर में किया प्रवेश, उच्च जातियों ने किया विरोध, प्रशासन ने दिखाई सख्ती

मौके पर मौजूद तिरुवन्नमलाई के कलेक्टर और एसपी ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि यह सरकार द्वारा नियंत्रित मंदिर है और इसमें दलितों का प्रवेश रोकना कानून के खिलाफ है, जिसके बाद 300 से अधिक पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में दलितों ने पहली बार मंदिर में प्रवेश किया।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले के थेनमुडियानूर गांव में सोमवार को उच्च जाति के प्रदर्शनकारियों के कड़े विरोध के बावजूद दलितों ने श्री मुथलम्मन मंदिर में प्रवेश किया। राज्य सरकार के हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग द्वारा प्रशासित मंदिर में बच्चों और महिलाओं सहित दलित समुदाय के सदस्यों ने पुष्प माला और फल के साथ प्रवेश किया।

थेनमुडियानूर गांव में 1,700 परिवार हैं, जिनमें से 500 दलित हैं और शेष विभिन्न जातियों से हैं। रीति-रिवाजों और परंपराओं के अनुसार, पोंगल त्योहार के बाद इस मंदिर में 12 समुदायों द्वारा अनुष्ठान किए जाते हैं और प्रत्येक को अनुष्ठान करने के लिए एक दिन का समय दिया जाता है। मंदिर में दलितों के प्रवेश करने पर रोक लगा दी जाती है।


दलितों ने जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित जिला प्रशासन से अपील की थी, जिसके बाद प्रशासन ने गांव में एक शांति बैठक बुलाई, जहां यह निर्णय लिया गया कि किसी को भी मंदिर में प्रवेश करने से रोकने का अधिकार नहीं है। जिला प्रशासन ने दलितों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी थी। हालांकि, दलितों के मंदिर में प्रवेश को लेकर उच्च जाति के लोगों ने कड़ा विरोध किया।

किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए मौके पर 300 से अधिक पुलिसकर्मियों की भारी तैनाती के बीच दलितों ने पहली बार मंदिर में प्रवेश किया। इस अवसर पर तिरुवन्नमलाई जिला कलेक्टर बी. मुरुगेस्ट, और पुलिस अधीक्षक के. कार्तिकेयन मौजूद रहे। उन्होंने प्रदर्शनकारियों को सूचित किया कि मंदिर में दलितों के प्रवेश को रोकने जैसी भेदभावपूर्ण प्रथा कानून के खिलाफ है और यह राज्य सरकार द्वारा नियंत्रित मंदिर है। पुलिस और जिला प्रशासन ने हंगामा कर रहे लोगों को शांत कराया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;