‘गदर’ पुरस्कार की शुरुआत तेलंगाना सरकार की प्रतिबद्धता का प्रमाण, अभिनेता मोहन बाबू ने किया स्वागत

रेवंत रेड्डी ने 31 जनवरी को घोषणा की थी कि तेलुगु सिनेमा में उत्कृष्टता के लिए नंदी पुरस्कारों को पुनर्जीवित किया जाएगा और नाम ‘गदर’ रखा जाएगा, जिनका हाल में निधन हो गया। ‘गदर’ पुरस्कार हर साल 31 जनवरी को कवियों, कलाकारों और फिल्मी हस्तियों को दिए जाएंगे।

अभिनेता मोहन बाबू ने ‘गदर’ पुरस्कार के ऐलान पर तेलंगाना सरकार की सराहना की
अभिनेता मोहन बाबू ने ‘गदर’ पुरस्कार के ऐलान पर तेलंगाना सरकार की सराहना की
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना की कांग्रेस सरकार ने दिवंगत लोक गायक गुम्मदी विट्ठल राव ‘गदर’ के नाम पर पुरस्कार का ऐलान किया है। सीएम रेवंत रेड्डी की सरकार के इस फैसले का टॉलीवुड अभिनेता मोहन बाबू ने स्वागत किया है। दिग्गज अभिनेता मोहन बाबू ने  राज्य सरकार और मुख्यमंत्री की सराहना करते हुए कहा कि यह सांस्कृतिक मान्यता के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का एक प्रमाण है।

अभिनेता मोहन बाबू ने एक्स पर पोस्ट किया, "मेरे भाई श्री ‘गदर’ को विशेष सराहना, ‘गदर’ जिनके रूह कंपा देने वाले गाने बदलाव के गीत बन गए हैं। उनके गीत सामाजिक परिवर्तन के लिए उत्प्रेरक के रूप में काम करते हैं, जो बातचीत और प्रेरणादायक दिमाग पैदा करते हैं।''

उन्होंने एक फाइल तस्वीर पोस्ट करते हुए कहा, ''वास्तव में ‘गदर’ पुरस्कार संगीत की शक्ति के माध्यम से एक सामंजस्यपूर्ण क्रांति बुनने वाले उनके प्रभावशाली प्रयासों और बलिदानों का उचित सम्मान करता है। निजी तौर पर मेरे लिए फाइल तस्वीर पोस्ट करना बहुत गर्व का क्षण है।'' फोटो में वह ‘गदर’ को सम्मानित करते हुए दिखाई दे रहे हैं।


मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने 31 जनवरी को घोषणा की थी कि तेलुगु सिनेमा में उत्कृष्टता के लिए नंदी पुरस्कारों को पुनर्जीवित किया जाएगा और इसका नाम ‘गदर’ रखा जाएगा, जिनका हाल ही में निधन हो गया। उन्होंने ‘गदर’ को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य सरकार द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में यह घोषणा की।

‘गदर’ पुरस्कार हर साल 31 जनवरी को कवियों, कलाकारों और फिल्मी हस्तियों को दिए जाएंगे। रेड्डी ने कहा कि उनसे मिलने वाली फिल्मी हस्तियों ने मांग की थी कि नंदी पुरस्कारों को फिर से शुरू किया जाए। नंदी पुरस्कारों की आखिरी बार घोषणा 2017 में की गई थी और तेलुगु फिल्म उद्योग से इन्हें पुनर्जीवित करने की मांग की गई है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;