दिल्ली: सीलमपुर हिंसा मामले में 6 आरोपी गिरफ्तार, उत्तर-पूर्वी जिले में धारा-144 लागू, जानें अब कैसे हैं हालात

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के सीलमपुर-जाफराबाद इलाके में भड़की हिंसा मामले में पुलिस ने 3 एफआईआर दर्ज की हैं। इसके अलावा पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली के सीलमपुर इलाके नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कार्रवाई की है। अभी तक पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में से कई आपराधिक बैकग्राउंड के हैं। वहीं दिल्ली पुलिस के मुताबिक, हालात काबू में है और धीरे -धीरे सामान्य हो रहे हैं।

इसके अलावा पुलिस ने 3 एफआईआर दर्ज किए है। सीलमपुर-जाफराबाद इलाके में हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने दंगा फैलाने, पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने के आरोप में दो एफआईआर दर्ज की है। इसके अलावा बृजपुरी क्षेत्र में जो भी हिंसा हुई उस मामले में भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है, ये मामला पत्थरबाजी के आरोप में दर्ज किया गया है।

दूसरी ओर दिल्ली पुलिस हिंसा से ग्रसित इलाकों की लगातार पेट्रोलिंग कर रही है। ऐहितायतन उत्तर पूर्व जिले में धारा 144 भी लागू की गई है। बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद-सीलमपुर इलाके में मंगलवार को फैली हिंसा में कुल 18 लोग जख्मी हो गए। घायलों में 11 दिल्ली पुलिस के अधिकारी-कर्मचारी और 7 आम नागरिक हैं।

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता एसीपी अनिल मित्तल ने मंगलवार की देर शाम को बताया कि फिलहाल इलाके में एहतियातन 5 कंपनी अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। हालात को तुरंत काबू करने के लिए तीनों जिलों से अतिरिक्त पुलिस बल को घटना के तुरंत बाद मौके पर बुलाना पड़ा।

मित्तल ने आगे कहा, “सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, शांति भंग करने, दंगा फैलाने, आमजन का रास्ता रोकने, सरकारी काम में बाधा डालने की धाराओं के तहत अलग-अलग एफआईआर दर्ज की गई हैं। एक मामला सीलमपुर और दूसरा मामला जाफराबाद थाने में दर्ज किया गया है।”

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, “घटना की शुरुआत उस समय हुई, जब कुछ लोग शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन कर लौट रहे थे। उसी वक्त भीड़ में शामिल कुछ शरारती तत्वों ने अचानक सड़कों-गलियों में भगदड़ मचाना और पथराव करना शुरू कर दिया।” अचानक शुरू हुई पत्थरबाजी से सड़क-गलियों में आ जा रहे लोगों में भगदड़ मच गई। देखते-देखते हालात बेकाबू होते चले गए। जब तक पुलिस मोर्चे पर डटती उपद्रवियों की भीड़ चारों ओर फैल चुकी थी।

पुलिस के मोर्चा संभालने तक हिंसा पर उतरी भीड़ दो पुलिस बूथ, दो बसें, तीन मोटरसाइकिलों को आग के हवाले कर चुकी थी। सबसे ज्यादा पथराव सीलमपुर और जाफराबाद थाना क्षेत्र में हुआ बताया जाता है।

इसके अलावा नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान दिल्ली के जामिया नगर इलाके में हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं और इनमें कोई भी छात्र नहीं है। बता दें कि जामिया में हुई हिंसा के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने 2 FIR दर्ज कर दी थी।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

Published: 18 Dec 2019, 10:57 AM
लोकप्रिय