मुख्य समाचार

सीलिंग के विरोध में आज दिल्ली बंद, व्यापारी जगह-जगह कर रहे हैं प्रदर्शन

सीलिंग के विरोध में दिल्ली बंद

दिल्ली में सीलिंग के विरोध में आज ज्यादातर बाजार बंद हैं। सीलिंग के विरोध में व्यापारी जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं और केंद्र सरकार से सदन में बिल लाकर सीलिंग पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। 

सीलिंग के विरोध में आज दिल्ली बंद है। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के आह्वान पर सरोजनी नगर, करोल बाग और साउथ एक्सटेंशन समेत ज्यादातर बाजार बंद हैं। बंद में दिल्ली के 250 से ज्यादा व्यापारी संगठन शामिल हैं। व्यापारियों के बंद को राजनीतिक पार्टियों ने भी समर्थन दिया है। दिल्ली में अब तक सीलिंग पर रोक लगाने का कोई हल नहीं निकाले जाने से व्यापारी गुस्से में हैं। बंद के बीच दिल्ली में व्यापारी जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं और सरकार से सीलिंग पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। व्यापारियों की मांग है कि केंद्र सरकार सदन में बिल लाकर सीलिंग की कार्रवाई पर रोक लगाए।

वहीं सीलिंग की समस्या सुलझाने को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई है। लेकिन, बीजेपी ने इस बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया है। बीजेपी का कहना है कि बीते 30 जनवरी को सीएम केजरीवाल के आवास पर हुई की घटना के बाद पार्टी बैठक में शामिल नहीं होगी। पार्टी का आरोप है कि केजरीवाल के आवास पर पहुंचे बीजेपी प्रतिनिधिमंडल के साथ दुर्व्यवहार किया गया था। बीजेपी ने सीएम केजरीवाल को एक खत भी लिखा है। चिट्ठी में बीजेपी ने कहा है कि पहले दिल्ली सरकार सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी से मिलकर बिना नोटिस के सीलिंग के खिलाफ विरोध दर्ज कराए और व्यापारियों का पक्ष रखने के लिए बड़ा वकील रखे, इसके बिना किसी बैठक का मतलब नहीं है।

गौरतलब है कि दिल्ली में चल रहे सीलिंग के मुद्दे पर बीते 30 जनवरी को बात करने के लिए दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचा था। इस प्रतिनिधिमंडल मंडल पर सीएम केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि सीलिंग के मुद्दे पर बिना बात किए बीजेपी का प्रतिनिधिमंडल चला गया था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एक मॉनिटरिंग कमिटी द्वारा दिल्ली नगर निगम के जरिए व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए आवासीय संपत्तियों का इस्तेमाल करने वाले व्यापारिक प्रतिष्ठानों के खिलाफ सीलिंग अभियान चलाया जा रहा है। और इसी अभियान का दिल्ली के व्यापारी विरोध कर रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें