मोदी के 2 सांसदों को दिल्ली हाई कोर्ट का नोटिस, चुनावी हलफनामे में गलत जानकारी देने का है आरोप

बीजेपी सांसद डॉक्टर हर्षवर्धन और बीजेपी सांसद हंसराज हंस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल चुनावी हलफनामे में गलत जानकारी देने के आरोप में बीजेपी सांसदों को दिल्ली हाई कोर्ट ने नोटिस भेजा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

चुनावी हलफनामा में गलत जानकारी देने को लेकर बीजेपी के दो सांसदों की मुश्किलें बढ़ने वाली है। दिल्ली हाई कोर्ट ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से उस याचिका पर जवाब तलब किया है, जिसमें उनकी लोकसभा की सदस्यता रद्द करने की मांग की गई है। याचिका के मुताबिक, हर्षवर्धन पर आरोप लगा है कि उन्होंने द्वारका में अपनी पत्नी द्वारा खरीदे गए आवासीय अपार्टमेंट की जानकारी चुनावी हलफनामे में नहीं दिया था। मामले की अगली सुनवाई 24 सितंबर को होगी।

याचिका दायर कर एक शख्स ने आरोप लगाया था कि चुनावी हलफनामे में हर्षवर्धन ने अपनी पत्नी की आय के स्रोत का जिक्र नहीं किया है, जबकि चुनाव आयोग के नियम और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार प्रत्याशियों को अपनी पत्नी और आश्रितों के आय का स्रोत बताना होता है।

दूसरी ओर दिल्ली हाई कोर्ट ने बीजेपी सांसद हंसराज हंस के खिलाफ दायर की गई याचिका पर सुनवाई की। इस दौरान बीजेपी सांसद और चुनाव आयोग को अदालत की तरफ से नोटिस जारी किया गया। इसके साथ ही कोर्ट ने लोकसभा चुनावों में नामांकन के दौरान हंसराज हंस द्वारा दी गई सभी जानकारियों के रिकॉर्ड देने को लेकर चुनाव आयोग को निर्देश दिया है।

बता दें कि सांसद हंसराज हंस की जीत के बाद उनके खिलाफ खड़े कांग्रेस उम्मीदवार राजेश लिलोठिया द्वारा याचिका दायर की गई थी। इस याचिका में हंसराज हंस पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने नामांकन पत्र में गलत जानकारियां दीं थीं।

Published: 11 Jul 2019, 4:30 PM
लोकप्रिय