पेगासस खुलासे में शामिल ‘द वायर’ के ऑफिस पहुंची दिल्ली पुलिस, सवाल उठने पर बताया रूटीन चेकिंग

वेब पोर्टल ‘द वायर’ दुनिया के उन 16 मीडिया संस्थानों में शामिल है, जिन्होंने इजरायल के पेगासस स्पाईवेयर के जरिये भारत समेत दुनिया भर में कई बड़ी हस्तियों और पत्रकारों की जासूसी का खुलासा किया है। इस खुलासे के बाद भारत की संसद में हंगामा मचा हुआ है।

फोटोः @svaradarajan
फोटोः @svaradarajan
user

नवजीवन डेस्क

इजरायल के पेगासस स्पाईवेयर के जरिए भारत में नेताओं, पत्रकारों समेत कई नामी हस्तियों की जासूसी के खुलासे के बाद से देश की राजनीति में भूचाल आ गया है। विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर संसद में भी सरकार को घेरा हुआ है। इन सब हंगामे के बीच दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को पेगासस जासूसी कांड का खुलासा करने वाले मीडिया संस्थानों में शामिल ‘द वायर’ के दफ्तर का दौरा किया। इस पर सवाल उठने पर पुलिस ने दावा किया कि यह 15 अगस्त के मद्देनजर महज रूटीन चेकिंग थी।

वेब पोर्टल ‘द वायर’ के एडिटर सिद्धार्थ वरदराजन ने दफ्तर में दिल्ली पुलिस के आने को लेकर ट्वीट कर जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट में लिखा, “द वायर के दफ्तर मे एक अलग सा दिन। पेगासस प्रोजेक्ट के बाद पुलिसकर्मी आज आए और अजीब पूछताछ करने लगे। कौन है विनोद दुआ? कौन है स्वरा भास्कर? क्या हम आपका रेंट एग्रीमेंट देख सकते हैं? क्या हम आरफा से बात कर सकते हैं? जब उनसे आने का कारण पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि यह 15 अगस्त की रूटीन चेकिंग है।”


इस मामले के सामने आने के बाद जब नई दिल्ली जिले के डीसीपी दीपक यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 15 अगस्त के मद्देनजर पूरे जिले में रूटीन चेकिंग की जा रही है। डीसीपी ने वरदराजन के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए ट्वीट किया, “स्वतंत्रता दिवस की तैयारी में सुरक्षा और आतंकरोधी कदम उठाए जा रहे हैं। इसके तहत किरायेदारों का सत्यापन, गेस्ट हाउस की चेकिंग और अन्य कदम उठाए गए हैं। स्थानीय पुलिसकर्मी एक दफ्तर का सत्यापन करने गया था, जहां सामने गेट पर कोई साइनबोर्ड नहीं था।”

बता दें कि भारतीय वेब पोर्टल ‘द वायर’ दुनियाभर के उन 16 मीडिया संस्थानों में शामिल है, जिन्होंने फ्रांस की गैर-लाभकारी संस्था फॉरबिडेन स्टोरीज और मानवाधिकार संगठन एम्नेस्टी इंटरनेशनल के साथ साझेदारी कर पेगासस प्रोजेक्ट के तहत भारत समेत दुनिया भर की कई मशहूर हस्तियों की कथित जासूसी का दावा किया है। भारत में इस स्पाइवेयर के निशाने पर राहुल गांधी समेत विपक्ष के कई नेता, 40 से अधिक पत्रकार, कई अधिकारियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के होने का दावा किया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia