गणतंत्र दिवस पर लाल किले में हुए बवाल के मामले में आरोपी दीप सिद्धू को पुलिस ने किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दीप सिद्धू को अरेस्ट किया है। गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शनकारियों ने लाल किले पर बवाल किया था। इस दौरान लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराया गया था। इस मामले में दीप सिद्धू आरोपी है। बवाल के बाद से दीप फरार चल रहा था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुए बवाल के मामले में मुख्य आरोपियों में से एक दीप सिद्धू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दीप सिद्धू को अरेस्ट किया है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि दीप सिद्धू को चंडीगढ़ और अंबाला के बीच जीरकपुर इलाके से गिरफ्तार किया गया है।

गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शनकारियों ने लाल किले पर बवाल किया था। इस दौरान लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराया गया था। इस मामले में दीप सिद्धू आरोपी है। बवाल के बाद से दीप फरार चल रहा था। दिल्ली पुलिस ने उसके ऊपर एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था। दीप की गिरफ्तारी के लिए कई टीमें लगी हुई थीं।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि दीप सिद्धू कैलिफोर्निया में रहने वाली एक महिला मित्र और अभिनेत्री के संपर्क में था। वह वीडियो बनाता था और उसे भेज देता था, और वह वीडियो को दीप सिद्धू के फेसबुक अकाउंट पर अपलोड कर देती थी।

गणंत्र दिवस पर लाल किले पर झंडा धार्मिक झंडा लहराए जाने का एक वीडियो दीप सिद्धू ने खुद शेयर किया था। प्राचीर पर निशान साहिब फहराए जाने की घटना की पूरे देश में आलोचना हुई थी। किसान संगठनों ने खुद को इस घटना से अलग करते हुए दीप सिद्धू को पूरी घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया था। साथ ही यह आरोप भी लगाया था कि सिद्धू बीजेपी से जुड़ा है।

लाल किले में हुए बवाल के बाद दीप सिद्धू की गुरदासपुर से बीजेपी के सांसद और अभिनेता सनी देओल के साथ तस्वीर वायरल हुई थी। वहीं, सनी देओल ने ट्वीट कर कहा था कि मेरे या मेरे परिवार का दीप सिद्धू के साथ कोई संबंध नहीं है। गौरतलब है कि लाल किले में बवाल के बाद दीप सिद्धू कुछ वीडियो में नजर आया था, जिसमें उसने घटना पर सफाई दी थी।


फरारी के दौरान दीप सिद्धू ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर पूरे मामले में सफाई दी थी। उसने कहा था कि उसके ऊपर जो भी आरोप लग रहे हैं वह गलत हैं। उसने यह भी कहा था कि जल्द ही वह पुलिस के सामने आएगा और जांच में सहयोग करेगा।

गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस के मौके पर कृषि कानूनों के खिलाफ पूरे देश में किसानों की ओर से ट्रैक्टर रैली आयोजित की गई थी। ट्रैक्टर रैली को दिल्ली में घुसने की इजाजत नहीं थी। तय रूट के खिलाफ कुछ प्रदर्शनकारी दिल्ली में घुसे थे और लाल किले पर पहुंच कर उत्पात मचाया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Feb 2021, 9:31 AM
;